PDFSource

भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami PDF in Hindi

भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami Hindi PDF Download

भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami PDF Details
भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami
PDF Name भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami PDF
No. of Pages 3
PDF Size 0.19 MB
Language Hindi
CategoryEnglish
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
If भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami Hindi

नस्कर प्रे मित्रो इस लेख के माध्यम से भीष्म अष्टमी PDF के बारे में बताने जा रहे है। जैसा की आप सभी को ज्ञात होगा की भीष्म पितामह कोन थे। भीष्म पितामह हस्तिनापुर के राजा शांतनु के आठवे पुत्र थे। पितामाह का जन्म एक शाप के कारण हुआ था। वह देवी गंगा और राजा शांतनु के पुत्र रहे थे। एक शाप के कारण देवी गंगा और शांतनु को पृथ्वी पर जन्म लेना पड़ा था। भीष्मपतामह का नाम देवव्रत था। जो आगे चलकर भीष्म और फिर भीष्म से भीष्म पितामह बने थे।

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को भीष्म अष्टमी के नाम से मनाई जाती है। क्यूंकि इस दिन भीष्म पितामहा में महाभारत के युद्ध में कौरवो और पांडवो के बीच लड़ते हुए अपने प्राण त्याग दिए थे। उस समय पितमाहा की उम्र 150 वर्ष थी। और वह वीरगति को प्राप्त हो गए थे। इसलिए भारत में महाभारत के इस युद्ध को देखते हुए हिन्दू कैलेंडर में इस भीष्म अष्टमी का महत्वपूर्ण स्थान रखा है।

भीष्म पितामहा की स्तुति PDF

इति मतिरुपकल्पिता वितृष्णा भगवति सात्वतपुंगवे विभूम्नि।
स्वसुखमुपगते क्वचिद्विहर्तुं प्रकृतिमुपेयुषि यद्भवप्रवाह:।।1।।

त्रिभुवनकमनं तमालवर्णं रविकरगौरवराम्बरं दधाने।
वपुरलककुलावृताननाब्जं विजयसखे रतिरस्तु मेSनवद्या।।2।।

युधि तुरगरजोविधूम्रविष्वक्-कचलुलितश्रमवार्यलड्कृतास्ये।
मम निशितशरैर्विभिद्यमान-त्वचि विलसत्कवचेSस्तु कृष्ण आत्मा।।3।।

सपदि सखिवचो निशम्य मध्ये निजपरयोर्बलयो रथं निवेश्य।
स्थितवति परसैनिकायुरक्ष्णा हृतवति पार्थसखे रतिर्ममास्तु।।4।।

व्यवहितपृतनामुखं निरीक्ष्य स्वजनवधाद्विमुखस्य दोषबुद्ध्या।
कुमतिमहरदात्मविद्यया य-श्चरणरति: परमस्य तस्य मेSस्तु।।5।।

स्वनिगममपहाय मत्प्रतिज्ञा – मृतमधिकर्तुमवप्लुतो रथस्थ:।
धृतरथचरणोSभ्ययाच्चलद्गु – र्हरिरिव हन्तुमिभं गतोत्तरीय:।।6।।

शितविशिखहतो विशीर्णदंश: क्षतजपरिप्लुत आततायिनो मे।
प्रसभमभिससार मद्वधार्थं स भवतु मे भगवान् गतिर्मुकुन्द:।।7।।

 

विजयरथकुटुम्ब आत्ततोत्रे धृतहयरश्मिनि तच्छ्रियेक्षणिये।
भगवति रतिरस्तु मे मुमूर्षो – र्यमिह निरीक्ष्य हता गता: सरूपम्।।8।।

ललितगतिविलासवल्गुहास – प्रणयनिरीक्षणकल्पितोरुमाना:।
कृतमनुकृतवत्य उन्मदान्धा: प्रकृतिमगन्किल स्य गोपवध्व:।।9।।

मुनिगणनृपवर्यसड्कुलेSन्त: – सदसि युधिष्ठिरराजसूय एषाम्।
अर्हणमुपपेद ईक्षणीयो मम दृ्शिगोचर एष आविरात्मा।।10।।

 

तमिममहमजं शरीरभाजां हृदि हृदि धिष्ठितमात्मकल्पितानाम्।
प्रतिदृशमिव नैकधार्कमेकं समधिगतोSस्मि विधूतभेदमोह:।।11।।

 

//इति श्रीमद्भागवते महापुराणे प्रथमस्कन्दे नवमेेSध्याये भीष्मकृता भगवत्स्तुति: सम्पूर्णा||
प्रेषक मालचन्द जी शर्मा।

भीष्म अष्टमी PDF डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें। 


भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami PDF Download Link

Report This
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If भीष्म अष्टमी PDF | Bhisham Ashtami is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published.