PDFSource

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech PDF in Hindi

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech Hindi PDF Download

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech PDF Details
15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech
PDF Name 15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech PDF
No. of Pages 10
PDF Size 0.45 MB
Language Hindi
Categoryहिन्दी | Hindi
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads120
If 15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech Hindi

नमस्कार मित्रों, आज इस लेकह के माध्यम से हम अप सभी के लिए 15 अगस्त पर भाषण हिंदी में PDF 2022 / 15 August Independence Day Speech PDF in Hindi प्रदान करने जा रहे हैं। प्रतिवर्ष स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को मनाया जाता है। इसे भारत का राष्ट्रीयपर्व कहा जाता है। हर वर्ष भारत के प्रधानमंत्री लाल किले से इस दिन भारत देश को सम्बोधित करते हैं।

भारत के स्वतंत्र होने के उपलक्ष्य में इस दिन पूरे भारत के अनेकों विद्यालयों, कॉलेजों तथा अन्य कार्यक्रमों में झंडा फहराने का आयोजन बड़े ही धूम-धाम से किया जाता है। इस दिन बच्चे भिन्न-भिन्न प्रकार के समारोह, परेड और सांस्कृतिक आयोजनों में बढ़-चढ़ कर भाग लेते हैं और देश का गौरव बढ़ाते हैं। पूरे भारतवर्ष में यह दिन बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। अनेकों स्थानों पर इस दिन देशभक्ति गीत आदि सुनने को मिलते हैं।

भारत के निवासी इस दिन अपनी पोशाक, घरों, वाहनों आदि पर राष्ट्रीय ध्वज लगा कर स्वतंत्रता दिवस का उत्सव बड़ी खुशी से मनाते हैं। स्वतंत्रता दिवस के दिन बहुत से स्कूलों, कॉलेजों तथा अन्य प्रतियोगिता कार्यक्रमों में स्वतंत्रता दिवस पर भाषण भी दिया जाता है। इसीलिए अगर आप भी 15 अगस्त पर हिंदी भाषा में भाषण की तैयारी करना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए अत्यंत हो उपयोगी सिद्ध होगा।

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में PDF 2022 / 15 August Independence Day Speech in Hindi PDF

आदरणीय अतिथि महोदय, आदरणीय प्रधानाचार्यजी, सभी अध्यापकगण, अभिभावक और मेरे प्यारे दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते ही है कि आज हम यहाँ पर अपने देश का 75वां स्वतंत्रता दिवस मनाने के उपलक्ष में एकत्रित हुए है। सबसे पहले मैं आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई देता हूँ/देती हूँ।

15 अगस्त भारतवर्ष का राष्ट्रीय पर्व है। भारत देश वर्ष 1857- वर्ष 1947 तक स्वतंत्रता संग्राम लड़ने के पश्चात ब्रिटिश शासन से 15 अगस्त वर्ष 1947 को मुक्त हुआ और एक स्वतंत्र राष्ट्र बना। तभी से भारतवासी इस दिन को “स्वतंत्रता दिवस” के रूप में बहुत सी धूम-धाम और हर्षोउल्लास से मनाते है।

आओ झुककर सलाम करें उन्हें,
जिनकी जिंदगी में मुकाम आया है,
किस कदर खुशनसीब है वो लोग,
जिनका लहू भारत के काम आया है !!

स्वतंत्रता संग्राम की शुरुआत तब से हुई जब मंगल पांडे नामक क्रांतिकारी को ब्रिटिश शासन के अंग्रेज अधिकारी ने गोली मारी थी। तभी से सम्पूर्ण भारत देशवासियों ने अंग्रेजों के खिलाफ आवाज उठाई। हमे और हमारे देश को ब्रिटिशों से यह आजादी इतनी आसानी से नहीं मिली है। देश की आजादी पाने के लिए बहुत से क्रांतिकारी सेनानियों ने बलिदान दिया जैसे कि- महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, मंगल पांडे, बाल गंगाधर तिलक, पंडित जवाहरलाल नेहरू, लोक मान्य तिलक, लाला लाजपत राय और खुदीराम बोस आदि।

आजादी की लड़ाई लड़ने के लिए महात्मा गांधी ने सत्याग्रह आंदोलन चलाया और कई बार तो उन्हें जेल भी जाना पड़ा। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। क्योकि उनका एकमात्र लक्ष्य भारत देश को ब्रिटिश शासन से आजादी दिलाना था और काफी अत्याचार सहने और संघर्ष करने के पश्चात फलस्वरूप वे सफल भी हुए। स्वतंत्रता सेनानिओं के लिए कुछ लाइनें कहना चाहुँगी/चाहुँगा –

नमन है उन वीरों को जिन्होंने इस देश को बचाया,
गुलामी की मजबूत बेड़ियों को,
अपने बलिदान के रक्त से पिघलाया,
और भारत माँ को आजाद है कराया।

15 अगस्त वर्ष 1947 को भारत के इतिहास को स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया। इसी दिन देश के आजाद होने पर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने लाल किले पर झंडा फहराया था। तभी से प्रत्येक वर्ष देश के प्रधानमंत्री लाल लिखे पर झंडा फहराते है, राष्ट्रगान गाते है और सभी शहीद स्वतंत्रता सेनानियों को 21 तोपों से श्रद्धांजलि दी जाती है।

देश के प्रधानमंत्री हर साल देशवासियों को अपने भाषण के द्वारा सम्बोधित करते है और सेना द्वारा अपना शक्ति प्रदर्शन और परेड मार्च करते है। स्वतंत्रता दिवस के दिन सभी भारतवासियों के मन में देशभक्ति की भावना के साथ-साथ पूर्ण जोश रहता है। आजादी के बाद भारत देश अब तक बहुत उन्नति कर चुका है। 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन सभी विद्यालय, कॉलिज, संस्थान, बाजार, कार्यालय और कारखाने आदि बंद रहते है।

इस दिन सरकारी छुट्टी होती है। जगह-जगह पर झंडा फहराया जाता है। स्कूलों, कॉलिजों आदि में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिसमें सभी छात्र-छात्राएं भाग लेते है और देशभक्ति के गीत गाते है, कोई कविता सुनाता है तो कोई सांस्कृतिक गीतों पर नृत्य करते है। 15 August भारत देश के गर्व और सौभाग्य का दिवस है। यह पर्व हमारे हृदय में नवीन स्फूर्ति, नवीन आशा, उत्साह तथा देश-भक्ति का संचार है।

स्वतंत्रता दिवस हमे इस बात बात की याद दिलाता है कि हमने कितनी कुर्बानियाँ देकर यह आजादी प्राप्त की है, जिसकी रक्षा हमे हर कीमत पर करनी है। चाहे हमे इसके लिए अपने प्राणों का त्याग क्यों न करना पड़ें। इस प्रकार हम स्वतंत्रता दिवस के पर्व को पूर्ण उत्साह, उमंग और जोश के साथ मनाते है और राष्ट्र की स्वतंत्रता और सार्वभौमिकता की रक्षा का प्रण लेते है। जाते-जाते मैं बस इतना ही कहना चाहूंगी/चाहूंगा कि –

भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान,
इस दिन ले लिए जो हुए थे हँसकर कुर्बान,
आजादी की खुशियाँ मनाकर लो शपथ ये कि,
बनाएंगे देश भारत को और भी महान।

जय हिन्द !………. जय भारत !……..

15 अगस्त पर भाषण हिन्दी में 2022 PDF / Independence Day 2022 Speech in Hindi

स्वतंत्रता जो हमें हमारे पूर्वजों ने 15 अगस्त 1947 को दिलाई। एक ऐसी सुनहरी तारीख जिसके कारण हम आज आजाद भारत में सांस ले रहे हैं। इस आजादी के मोल में कई शहीदों ने अपनी जान चुकाई। तब जाकर हमें आजाद भारत की छत मिल पाई हैं.अब हमारा कर्तव्य हैं कि हम उन शहीदों को श्रद्धांजलि के रूप में भारत देश का नाम सुनहरे अक्षरों में लिखवाये।

भारत भूमि माँ स्वरूप मानी जाती हैं। देशवासी भारत माता के बच्चे हैं। अपनी माँ के लिए कर्तव्य निभाने वाले शहीद ही माँ की सच्ची संताने हैं। शहीद के लिए जितना कहे कम हैं। एक ऐसा महान व्यक्ति जो अपने कर्तव्य के आगे अपनी जान तक को तुच्छ मानता हैं। उसके लिए शब्दों में कुछ कह पाना आसान नहीं। पर हम सभी लोग जिन्हें जान देने का मौका नहीं मिलता या कहे हममे उतनी हिम्मत, ताकत नहीं हैं।

हम भी देश के लिए कार्य कर सकते हैं। जरुरी नहीं जान देकर ही देशभक्ति का जस्बा दिखाया जाये। हमें अपने कर्तव्यों अधिकारों के प्रति सजक होना होगा उनका निर्वाह करना होगा। यह उन शहीदों, देश भक्तो एवम मातृभूमि के लिए हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी। देश भक्ति प्राण न्यौछावर करके ही निभाई नहीं जाती। देश के लिए हर मायने में वफादार होना भी देश भक्ति हैं।

देश की धरोहर की रक्षा करना, देश को स्वच्छ बनना, कानून का पालन करना, भ्रष्ट्राचार का विरोध करना, आपसी प्रेम से रहना आदि यह सभी कार्य देशभक्ति के अंतर्गत ही आते हैं। देश के लिए वफादार बनना ही सही मायने में देश की सेवा हैं। इससे देश भीतर से मजबूत होता हैं। देश में एकता बढती हैं और एकता ही देश की शक्ति होती हैं। दो सो सालों की गुलामी के बाद देश आजाद हुआ था।

1947 में देश को आजादी एकता के कारण ही मिली थी लेकिन इस एकता में सदा के लिए दो गुट बन गए। वे दो गुट धर्म, साम्प्रदायिकता की देन नहीं अपितु अंग्रेजो की दी फुट की देन थी और आज तक अंग्रेजो का दिया। वह घृणित तौहफा हमारे देश को कमजोर बना रहा हैं. यह घृणित फांसला हमारे देश के भीतर तो हैं ही साथ में भारत पाकिस्तान दोनों देशो के बीच भी आज तक गहरा हैं। इस घृणा का मोल हम सभी को हर वक्त चुकाना पड़ता हैं।

देश की आय का कई गुना खर्च सीमा पर देश की लड़ाई में व्यय होता हैं जिस कारण दोनों ही देशों के कई लाखों लोगो को रात्रि में बिना भोजन के सोना पड़ता हैं। आजादी के 69 सालों बाद भी दोनों देश गरीब हैं इसका कारण हैं आपसी फुट। जिसका फायदा उस वक्त भी तीसरे लोगो ने उठाया और आज भी उठा रहे हैं। 1947 के पहले 1857 में भी इसी तरह से क्रांति छिड़ी थी. देश में चारो तरह आजादी के लिए युद्ध चल रहे थे। उस वक्त राजा महाराजों का शासन था लेकिन वे सभी राजा अंग्रेजों के आधीन थे।

1857 का वक्त रानी लक्ष्मी बाई के नाम से जाना जाता हैं। उस वक्त भी अंग्रेजो की फुट एवम राजाओं के बीच सत्ता की लालसा के कारण देश आजाद नहीं हो पाया। उसके जब हम मुगुलो और राजपूतों का वक्त देखे तब भी फुट ने ही देश को कमजोर बनाया। उस वक्त भी महाराणा प्रताप की हार का कारण फुट एवम राजाओं की सत्ता की भूख थी और आज हम जब निगाहे उठाकर देखते हैं. तब भी हमें यही दिखता हैं कि देश के नेताओं को बस सत्ता की भूख हैं।

वो देश की जानता को साम्प्रदायिकता के जरिये तोड़ रहे हैं। और इसमें उन्हें बस सत्ता की भूख हैं। इन सभी में बदलाव लाने के लिए हम सभी को जागने की जरुरत हैं। यह लड़ाई इतनी आसानी से कम नहीं होगी। उल्टा दिन पर दिन बढ़ती जाएगी। इसका एक ही हल हो सकता हैं कि आने वाली पीढ़ी को शिक्षित किया जाये, अच्छे बुरे की समझ दी जाये, आदर, सम्मान एवम देशभक्ति का मार्ग दिखाया जाये, इसके बाद ही देश में बदलाव आ सकते हैं।

हमारा देश जिसका ध्वज तीन रंगों से मिल कर बना हैं जिसमे केसरिया रंग जो प्रगति का प्रतीक हैं, सफ़ेद जो अमन एवं शांति का प्रतीक हैं, हरा जो समृद्धि का प्रतीक हैं। साथ में अशोक चक्र जो हर पल बढ़ते रहने का सन्देश देता हैं। तिरंगे का सफ़ेद रंग पूरी दुनियाँ को शांति का सन्देश देता हैं क्यूंकि युद्ध से सभी देशों एवम नागरिको पर बुरा असर पड़ता हैं।

याद रखियेगा लड़ते वही हैं जिनमे शिक्षा का आभाव होता हैं। अगर किसी देश की प्रगति चाहिए तो उस देश का शिक्षा स्तर सुधारना सबसे जरुरी हैं। स्वतंत्रता दिवस पर केवल शहीदों को याद करना, राष्ट्रीय सम्मान करना, देश भक्ति की बाते करने के अलावा हम सभी को प्रण लेना चाहिए कि रोजमर्रा के कार्य में देश के लिए सोच कर कुछ करे जिसमे देश की सफाई, अपने बच्चो एवम आस-पास के बच्चो को एक सही दिशा देने के लिए कुछ कार्य करें, गरीब बच्चो को पढ़ने में मदद करें, बुजुर्गो को सम्मान दे, क्राइम के प्रति जागरूक होकर दोषी को दंडित करें, गलत को गलत कहने की हिम्मत रखे, जान बुझकर या अनजाने में भी भ्रष्टाचार का साथ ना दे एवम सबसे जरुरी देश के नियमो का पालन करे।

अगर हम रोजमर्रा में इन चीजो को शामिल करते हैं तो देश जरुर प्रगति करेगा और हम सभी भी देश के सपूत कहलायेंगे। 15 अगस्त, 26 जनवरी केवल यह दो दिनों के मौहताज ना बने। मातृभूमि इस दिन का इन्तजार नहीं करती। वो तो उस दिन का इंतजार कर रही हैं जब देश की भूमि पर भ्रष्टाचार का नाम न हो, जब बेगुनाहों का कत्लेआम ना हो, जब नारी की अस्मत का व्यापार ना हो, जब माता- पिता को वृद्ध होने का संताप ना हो।

ऐसे दिन के इंतज़ार में मातृभूमि आस लगाये बैठी हैं। क्यूँ न यह सौभाग्य हमें मिले और हम अपने छोटे से कार्य का योगदान देकर मातृभूमि की इस इच्छा को पूरी करने के लिए एक नीव का मूक पत्थर बन जायें।

15 अगस्त पर भाषण हिंदी में PDF 2022 Download करने के लिए नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।


15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech PDF Download Link

Report a Violation
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If 15 अगस्त पर भाषण हिंदी में | Independence Day Speech is a copyright, illigal or abusive material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.

हिन्दी | Hindi PDF