आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF Download

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF Details
आजादी का अमृत महोत्सव निबंध
PDF Name आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF
No. of Pages 7
PDF Size 1.65 MB
Language English
Categoryहिन्दी | Hindi
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF के रूप में प्राप्त कर सकते हैं। आजादी का अमृत महोत्सव भारत सरकार द्वारा आरंभ किया गया एक अत्यधिक महत्वपूर्ण अभियान है जिसके अंतर्गत स्वतन्त्रता के 75 वर्ष होने पर सम्पूर्ण देश में विभिन्न प्रकार के राष्ट्रीय आयोजन किए जाएंगे।

यह अभियान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रारम्भ किया था। इस अभियान को भारत सहित विश्वभर में रहने वाले भारतीयों ने अपना समर्थन दिया है तथा इस अभियान के प्रति अपना योगदान भी सुनिश्चित किया है। आजादी का अमृत महोत्सव का उद्देश्य देशवासियों में एक राष्ट्रवाद की भावना का संचार करना भी है।

स्वतन्त्रता का कोई मूल्य नही होता वह अनमोल होती है, हालांकि इसी प्राप्त करने के लिए न जाने कितने ही स्वतन्त्रता सेनानी अपने प्राणों का बलिदान कर देते हैं। यदि आप आजादी का अमृत महोत्सव अभियान के विषय पर एक समुचित निबंध चाहते हैं तो इस लेख में दी गयी पीडीएफ़ फ़ाइल आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी।

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF

उत्सव का नाम आजादी का अमृत महोत्सव
उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
आरंभ तिथि 12 मार्च 2021
समापन तिथि 15 अगस्त 2023
आयोजन का कारण आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर जागरूकता
  • ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ प्रगतिशील भारत की आजादी के 75 साल और इसके लोगों, संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को मनाने और मनाने के लिए भारत सरकार की एक पहल है।
  • यह महोत्सव भारत के लोगों को समर्पित है, जिन्होंने न केवल भारत को अपनी विकासवादी यात्रा में लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, बल्कि उनके भीतर प्रधानमंत्री मोदी के भारत 2.0 को सक्रिय करने के दृष्टिकोण को सक्षम करने की शक्ति और क्षमता भी है, जो आत्मनिर्भर की भावना से प्रेरित है।
  • आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक पहचान के बारे में प्रगतिशील है। “आज़ादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च, 2021 को शुरू होती है, जो हमारी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75 सप्ताह की उलटी गिनती शुरू करती है और 15 अगस्त, 2023 को एक वर्ष के बाद समाप्त होगी।
  • प्रधान मंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने 12 मार्च, 2021 को साबरमती आश्रम, अहमदाबाद से ‘दांडी मार्च’ को हरी झंडी दिखाकर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का उद्घाटन किया। यह समारोह स्वतंत्रता की हमारी 75वीं वर्षगांठ से 75 सप्ताह पहले शुरू हुआ और 15 अगस्त, 2023 को समाप्त होगा।

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF – मुख्य पांच बिन्दु

1. स्वतंत्रता संग्राम यह विषय आजादी का अमृत महोत्सव के तहत हमारे स्मरणोत्सव की पहल की शुरुआत करती है। यह विषय उन विस्मृत नायकों की कहानियों को जीवंत करने में मदद करता है जिनके बलिदान ने हमारे लिए स्वतंत्रता को एक वास्तविकता बना दिया है। इस विषय के तहत कार्यक्रमों में बिरसा मुंडा जयंती (जनजातीय गौरव दिवस), नेताजी द्वारा स्वतंत्र भारत की अनंतिम सरकार की घोषणा, शहीद दिवस आदि शामिल हैं।
2. 75 वर्ष पर विचार जैसा कि हम जानते थे कि दुनिया बदल रही है और एक नई दुनिया सामने आ रही है। हमारे दृढ़ विश्वास की ताकत हमारे विचारों की लंबी आयु तय करेगी। इस विषय के तहत आयोजनों और कार्यक्रमों में लोकप्रिय, सहभागी पहलें शामिल हैं जो दुनिया में भारत के अद्वितीय योगदान को जीवंत करने में मदद करती हैं। इनमें काशी की भूमि के हिंदी साहित्यकारों को समर्पित काशी उत्सव, प्रधान मंत्री को पोस्ट कार्ड जैसे कार्यक्रम और पहल शामिल हैं।
3. 75 वर्ष पर उप्लाबधियाँ इसका उद्देश्य 5000+ वर्षों के प्राचीन इतिहास की विरासत के साथ 75 साल पुराने स्वतंत्र देश के रूप में हमारी सामूहिक उपलब्धियों के सार्वजनिक खाते में विकसित होना है। इस विषय के तहत कार्यक्रमों में 1971 की जीत के लिए समर्पित स्वर्णिम विजय वर्ष, महापरिनिर्वाण दिवस के दौरान श्रेष्ठ योजना का शुभारंभ आदि जैसी पहल शामिल हैं।
4. 75 वर्ष पर कदम इसका उद्देश्य 5000+ वर्षों के प्राचीन इतिहास की विरासत के साथ 75 साल पुराने स्वतंत्र देश के रूप में हमारी सामूहिक उपलब्धियों के सार्वजनिक खाते में विकसित होना है। इस विषय के तहत कार्यक्रमों में 1971 की जीत के लिए समर्पित स्वर्णिम विजय वर्ष, महापरिनिर्वाण दिवस के दौरान श्रेष्ठ योजना का शुभारंभ आदि जैसी पहल शामिल हैं।
5. 75 वर्ष पर संकल्प यह विषय हमारी मातृभूमि की नियति को आकार देने के हमारे सामूहिक संकल्प और दृढ़ संकल्प पर केंद्रित है। 2047 की यात्रा के लिए हममें से प्रत्येक को व्यक्तियों, समूहों, नागरिक समाज, शासन की संस्थाओं आदि के रूप में उठकर अपनी भूमिका निभाने की आवश्यकता है। हमारे सामूहिक संकल्प, सुनियोजित कार्य योजनाओं और दृढ़ प्रयासों से ही विचारों को कार्यों में परिणत किया जा सकता है। इस विषय के तहत कार्यक्रमों में संविधान दिवस, सुशासन सप्ताह आदि जैसी पहल शामिल हैं जो उद्देश्य की गहरी भावना से प्रेरित होने के साथ-साथ ‘ग्रह और लोगों’ के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को जीवंत करने में मदद करती हैं।

आजादी के अमृत महोत्सव पर 10 पंक्तियाँ

  1. आजादी का अमृत महोत्सव भारत के स्वतंत्रता सेनानियों की उपलब्धियों, विजयों और बलिदानों को मनाने और जानने के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है।
  2. आजादी का अमृत महोत्सव का अर्थ है “स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे करना।”
  3. भारत के प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) ने इस अभियान की शुरुआत 12 मार्च 2021 को की थी।
  4. यह महोत्सव 15 अगस्त 2023 तक जारी रहेगा।
  5. यह आत्मनिर्भरता की आवश्यकता पर भी जोर देता है।
  6. इस पहल का उद्देश्य भारत के गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों और उपलब्धियों के बारे में आम लोगों को जागरूक करना है।
  7. आजादी का अमृत महोत्सव भारत के प्रत्येक नागरिक को अपनी छिपी प्रतिभा और क्षमताओं को खोजने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  8. यह महोत्सव भारत के स्वतंत्रता संग्राम के उन सभी गुमनाम नायकों को समर्पित है, जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए अपने जीवन की परवाह नहीं की और अपने बहुमूल्य जीवन का बलिदान दिया।
  9. इसका यह भी उद्देश्य है कि लोग भारत की बेहतरी में अपना योगदान दें।
  10. आजादी के अमृत महोत्सव के मुख्य विषय स्वतंत्रता 2.0, विश्व गुरु भारत, आत्मानिर्भर भारत, विचार उपलब्धियां व संकल्प, भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत हैं। विचार उपलब्धियां और संकल्प, भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और गुमनाम नायकों के बारे में जानना हैं।

आजादी का अमृत महोत्सव पर जरूरी नारे

  • “जिन वीरों पर हमें गर्व है आजादी होनी है का पर्व है”
  • “कहती भारत की आबादी है जान से भी प्यारी आजादी है”
  • “स्वतंत्रता अधूरी जिनके बिन है यह उन्हीं शहीदों का दिन है”
  • “गांधी सुभाष और भगत सिंह यही है आजादी के चिन्ह”
  • आजादी का अमृत महोत्सव कहां से शुरू हुआ था?
  • आजादी का अमृत महोत्सव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख द्वारा गुजरात से शुरू हुआ था।
  • प्रधानमंत्री द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव कहा किये
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी का मृत्यु महोत्सव की शुरुआत मार्च महीने में गुजरात के साबरमती आश्रम में की थी और उन्होंने स्वतंत्रता के बारे में विस्तार से लोगों को बताया था।

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF download करने के लिए नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।


आजादी का अमृत महोत्सव निबंध PDF Download Link

RELATED PDF FILES