बुध स्तोत्र | Buddh Stotra PDF in Hindi

बुध स्तोत्र | Buddh Stotra Hindi PDF Download

बुध स्तोत्र | Buddh Stotra Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

बुध स्तोत्र | Buddh Stotra PDF Details
बुध स्तोत्र | Buddh Stotra
PDF Name बुध स्तोत्र | Buddh Stotra PDF
No. of Pages 3
PDF Size 0.35 MB
Language Hindi
Categoryहिन्दी | Hindi
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
Tags:

बुध स्तोत्र | Buddh Stotra Hindi

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए बुध स्तोत्र / Buddh Stotra PDF in Hindi प्रदान करने जा रहे हैं। बुद्ध स्तोत्र एक अत्यंत ही चमत्कारी तथा प्रभावशाली स्तोत्र है। यह दिव्य स्तोत्र बुध ग्रह को समर्पित है। जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि हिन्दू वैदिक ज्योतिष में नवग्रह को बहुत अधिक महत्वपूर्ण तथा प्रभावशाली माना जाता है। नवग्रह के नाम कुछ इस प्रकार है- सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहू और केतु।

बुध को इंगलिश में Mercury के नाम से जाना जाता है। यह सूर्य के सबसे निकटम ग्रह माना जाता है और सभी ग्रहो में से यह सबसे अधिक छोटा ग्रह भी है। इसीलिए बुध ग्रह को देवताओं का राजकुमार भी कहा जाता है। ज्योतिषशास्त्र बुध ग्रह को वाणी, संचार और बुद्धि की कुशलता का ग्रह माना जाता है। बुध ग्रह को प्रसन्न करके जातक हर क्षेत्र में उन्नति पा सकता है। बुध ग्रह से संबन्धित रोगों से पीड़ित व्यक्तियों को बुध स्तोत्र का पाठ करने विशेष लाभ मिलता है।

अगर आप अपने जीवन में नौकरी न मिलने की समस्या से बहुत समय से परेशान है तो बुध स्तोत्र का नियमित रूप से पाठ करने से आपकी इस समस्या का शीघ्र ही निवारण हो जाएगा। इस स्तोत्र का पाठ करने से मनुष्य का हर क्षेत्र में नाम हो जाता है। इस स्तोत्र का पाठ अगर आप प्रतिदिन करते हैं तो आपकी कुंडली में बुध ग्रह मजबूत हो जाएगा। अगर आप भी अपनी कुंडली में बुध ग्रह की को प्रभावशाली बनाना चाहते हैं तो बुद्ध स्तोत्र का श्रद्धापूर्वक पाठ अवश्य करें।

बुध स्तोत्र / Buddh Stotra PDF in Hindi

|| बुध स्तोत्र ||

पीताम्बर: पीतवपुः किरीटश्र्वतुर्भजो देवदु: खपहर्ता।
धर्मस्य धृक् सोमसुत: सदा मे सिंहाधिरुढो वरदो बुधश्र्व।।1।।

प्रियंगुकनकश्यामं रुपेणाप्रतिमं बुधम्।
सौम्यं सौम्य गुणोपेतं नमामि शशिनंदनम।।2।।

सोमसूनुर्बुधश्चैव सौम्य: सौम्यगुणान्वित:।
सदा शान्त: सदा क्षेमो नमामि शशिनन्दनम्।।3।।

उत्पातरूप: जगतां चन्द्रपुत्रो महाधुति:।
सूर्यप्रियकारी विद्वान् पीडां हरतु मे बुध:।।4।।

शिरीष पुष्पसडंकाश: कपिशीलो युवा पुन:।
सोमपुत्रो बुधश्र्वैव सदा शान्ति प्रयच्छतु।।5।।

श्याम: शिरालश्र्व कलाविधिज्ञ: कौतूहली कोमलवाग्विलासी।
रजोधिकोमध्यमरूपधृक्स्यादाताम्रनेत्रीद्विजराजपुत्र:।।6।।

अहो चन्द्र्सुत श्रीमन् मागधर्मासमुद्रव:।
अत्रिगोत्रश्र्वतुर्बाहु: खड्गखेटक धारक:।।7।।

गदाधरो न्रसिंहस्थ: स्वर्णनाभसमन्वित:।
केतकीद्रुमपत्राभ इंद्रविष्णुपूजित:।।8।।

ज्ञेयो बुध: पण्डितश्र्व रोहिणेयश्र्व सोमज:।
कुमारो राजपुत्रश्र्व शैशेव: शशिनन्दन:।।9।।

गुरुपुत्रश्र्व तारेयो विबुधो बोधनस्तथा।
सौम्य: सौम्यगुणोपेतो रत्नदानफलप्रद:।।10।।

एतानि बुध नमामि प्रात: काले पठेन्नर:।
बुद्धिर्विव्रद्वितांयाति बुधपीड़ा न जायते।।11।।

।।  इति मंत्रमहार्णवे बुधस्तोत्रम  ।।

बुध स्तोत्र के लाभ / Budh Stotra Benefits in Hindi

  • बुध ग्रह कुंडली में बहुत महत्वपूर्ण ग्रह होता है इसीलिए बुध की कृपा पाने के लिए बुध स्तोत्र का पाठ शुभफलदायक माना गया है।
  • बुध स्तोत्र का नियमित रूप से पाठ करने से कुंडली बहुत मजबूत हो जाती है और व्यक्ति हर क्षेत्र में उन्नति पाता है।
  • इस दिव्य स्तोत्र का पाठ करके आप बुध ग्रह को बलवान करके अपने जीवन में बहुत अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • जैसा कि आप जानते होंगे कि गलत निर्णयों के कारण बिजनेस तथा रिश्ते सब प्रभावित हो जाते हैं, इसके निवारण के लिए बुध स्तोत्र एक बहुत ही सुलभ उपाय है।
  • बुध स्तोत्र का पाठ करने से बुध ग्रह प्रबल होता है तथा इससे जुड़े सभी दोष दूर हो जाते हैं।
  • बुध के प्रबल होने से व्यक्ति की हर क्षेत्र सुख, सौभाग्य प्राप्त होता है।
  • यदि आपकी कुंडली में बुध ग्रह से संबन्धित दोष व्याप्त है, तो आपको प्रत्येक बुधवार के दिन पूजा के अंत में बुध स्तोत्र का पाठ श्रद्धापूर्वक अवश्य करना चाहिए, अगर आप प्रतिदिन पाठ करने में असमर्थ हैं तो केवल बुधवार को इसका पाठ कर सकते हैं।
  • बुध स्तोत्र का नियमित रूप से हर बुधवार को पाठ करने से व्यक्ति को मनचाहा वरदान प्राप्त हो जाता है।

बुध स्तोत्र PDF / Buddh Stotra PDF in Hindi डाउनलोड करने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें।


बुध स्तोत्र | Buddh Stotra PDF Download Link

RELATED PDF FILES