देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics PDF in Hindi

देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics Hindi PDF Download

देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics PDF Details
देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics
PDF Name देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics PDF
No. of Pages 40
PDF Size 0.67 MB
Language Hindi
Categoryहिन्दी | Hindi
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics Hindi

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए देश भक्ति गीत 2022 PDF / Desh Bhakti Geet Lyrics in Hindi PDF प्रदान करने जा रहे हैं। जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि पूरे भारतवर्ष में 15 अगस्त के दिन स्वतन्त्रता दिवस बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है। इस राष्ट्रीय अवसर पर अनेकों विद्यालयों तथा और विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

इन विभिन्न प्रकार के आयोजनों में अनेक प्रकार के देश भक्ति गीत गाये जाते हैं। इन देश भक्ति गीतों को छोटे और बड़े बच्चों द्वारा इस अवसर पर गाया जाता है। इसीलिए अगर आप या आपके घर में से कोई अन्य सदस्य देश भक्ति गीत की तैयारी करना चाहते हैं हगमरे इस लेख के माध्यम से फ्री में पीडीएफ़ प्रारूप में आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

हमने इन गीतों को अलग-अलग जगह से लिया है यह आपके लिए बहुत ही लाभदायक सिद्ध होंगे। राष्ट्रीय स्वतंत्रता दिवस या गणतंत्र दिवस के पर्व पर इन गीतों को गाया जाता है। इनमें से ऐसे कई गीत हैं जिन्हें देश भक्ति गाना भी माना जाता है। हमने विभिन्न फिल्मों के कुछ गानों को भी सूचीबद्ध किया है जिन्हें दर्शकों ने पसंद किया और जिन्होनें दुनिया भर में बड़ी ही लोकप्रियता हासिल की है।

देश भक्ति गीत 2022 PDF / Desh Bhakti Geet Lyrics in Hindi PDF

नन्हा मुन्ना राही हूं

नन्हा मुन्ना राही हूं, देश का सिपाही हूं,

बोलो मेरे संग, जय हिन्द, जय हिन्द, जय हिन्द।

जय हिन्द, जय हिन्द।

नन्हा मुन्ना राही हूं, देश का सिपाही हूं,

बोलो मेरे संग, जय हिन्द, जय हिन्द, जय हिन्द।

जय हिन्द, जय हिन्द।

रस्ते पे चलूंगा न डर-डर के,

चाहे मुझे जीना पड़े मर-मर के,

मंजिल से पहले न लूंगा कहीं दम,

आगे ही आगे बढ़ाऊंगा कदम,

दाहिने बाएं दाहिने बाएं, थम।

नन्हा मुन्ना राही हूं…

धूप में पसीना मैं बहाऊंगा जहां,

हरे-भरे खेत लहराएगें वहां,

धरती पे फाके न पाएगें जन्म,

आगे ही आगे बढ़ाऊंगा कदम,

दाहिने बाएं दाहिने बाएं, थम।

नन्हा मुन्ना राही हूं…

नया है जमाना मेरी नई है डगर,

देश को बनाऊंगा मशीनों का नगर,

भारत किसी से रहेगा नही कम,

आगे ही आगे बढ़ाऊंगा कदम,

दाहिने बाएं दाहिने बाएं, थम।

नन्हा मुन्ना राही हूं…

बड़ा हो के देश का सहारा बनूंगा,

दुनिया की आंखों का तारा बनूंगा,

रखूंगा ऊंचा तिरंगा परचम,

आगे ही आगे बढ़ाऊंगा कदम,

दाहिने बाएं दाहिने बाएं, थम।

नन्हा मुन्ना राही हूं…

शांति की नगरी है मेरा ये वतन,

सबको सिखाऊंगा मैं प्यार का चलन,

दुनिया में गिरने न दूंगा कहीं बम,

आगे ही आगे बढ़ाऊंगा कदम,

दाहिने बाएं दाहिने बाएं, थम।

नन्हा मुन्ना राही हूं…

छोड़ो कल की बातें

छोड़ो कल की बातें कल की बात पुरानी,

नये दौर में लिखेंगे मिलकर नई कहानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी …

छोड़ो कल की बातें कल की बात पुरानी,

नये दौर में लिखेंगे मिलकर नई कहानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी …

आज पुरानी जंजीरों को तोड़ चुके हैं,

क्या देखें उस मंजिल को जो छोड़ चुके हैं,

चांद के दर पे जा पहुंचा है आज जमाना,

नए जगत से हम भी नाता जोड़ चुके हैं,

नया खून है, नई उमंगें, अब है नई जवानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी …

छोड़ो कल की बातें …..

हमको कितने ताजमहल हैं और बनाने,

कितने ही अजंता हम को और सजाने,

अभी पलटना है रुख कितने दरियाओं का,

कितने पर्वत राहों से हैं आज हटाने,

नया खून है, नई उमंगें, अब है नई जवानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी …

छोड़ो कल की बातें….

आओ मेहनत को अपना ईमान बनाएं,

अपने हाथों को अपना भगवान बनाएं,

राम की इस धरती को गौतम की भूमि को,

सपनों से भी प्यारा हिंदुस्तान बनाएं,

नया खून है, नई उमंगें, अब है नई जवानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी …

छोड़ो कल की बातें….

हर जर्रा है मोती आंख उठाकर देखो,

माटी में सोना है हाथ बढ़ाकर देखो,

सोने की ये गंगा है चांदी की यमुना,

चाहो तो पत्थर से धान उगाकर देखो,

नया खून है, नई उमंगें, अब है नई जवानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी…

छोड़ो कल की बातें….

छोड़ो कल की बातें कल की बात पुरानी,

नये दौर में लिखेंगे मिलकर नई कहानी,

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी … 2

सर झुका सकते नहीं

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं,

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं,

सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं।

सर झुका सकते नहीं।

हमने सदियों में ये आजादी की नेमत पाई है,

हमने ये नेमत पाई है,

सैंकड़ों कुर्बानियां देकर ये दौलत पाई है,

हमने ये दौलत पाई है

मुस्कुरा कर खाई हैं सीनों पे अपने गोलियां,

सीनों पे अपने गोलियां,

कितने वीरानों से गुजरे हैं, तो जन्नत पाई है,

खाक में हम अपनी इज्जत को मिला सकते नहीं,

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं…

क्या चलेगी जुल्म की अहले-वफा के सामने,

अहले-वफा के सामने,

आ नहीं सकता कोई शोला हवा के सामने,

शोला हवा के सामने,

लाख फौजें ले के आए अमन का दुश्मन कोई,

लाख फौजें ले के आए अमन का दुश्मन कोई,

रुक नहीं सकता हमारी एकता के सामने,

हम वो पत्थर हैं, जिसे दुश्मन हिला सकते नहीं,

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं…

सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं।

सर झुका सकते नहीं।

वक्त की आवाज के हम साथ चलते जाएंगे,

हम साथ चलते जाएंगे,

हर कदम पर जिन्दगी का रुख बदलते जाएंगे,

हम रुख बदलते जाएंगे,

गर वतन में भी मिलेगा कोई गद्दारे वतन,

जो कोई गद्दारे वतन,

अपनी ताकत से हम उसका सर कुचलते जाएंगे,

एक धोखा खा चुके हैं और खा सकते नहीं,

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं…

वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम,

हम वतन के नौजवां हैं हम से जो टकराएगा,

हम से जो टकराएगा,

वो हमारी ठोकरों से खाक में मिल जाएगा,

खाक में मिल जाएगा,

वक्त के तूफान में बह जाएंगे जुल्मो-सितम,

आसमां पर ये तिरंगा उम्र भर लहराएगा,

उम्र भर लहराएगा,

जो सबक बापू ने सिखलाया भुला सकते नहीं,

सर कटा सकते है लेकिन सर झुका सकते नहीं…

सर कटा सकते है लेकिन सर झुका सकते नहीं…

आई लव माय इंडिया

लंदन देखा, पेरिस देखा,

लंदन देखा, पेरिस देखा और देखा जापान,

माइकल देखा, एल्विस देखा, सब देखा मेरी जान,

सारे जग में कहीं नहीं है दूसरा हिंदुस्तान,

दूसरा हिंदुस्तान, दूसरा हिंदुस्तान

ये दुनिया एक दुल्हन,

ये दुनिया एक दुल्हन, दुल्हन के माथे की बिंदिया,

ये मेरा इंडिया, ये मेरा इंडिया,

आई लव माय इंडिया, आई लव माय इंडिया……

ये दुनिया एक दुल्हन,

ये दुनिया एक दुल्हन, दुल्हन के माथे की बिंदिया,

ये मेरा इंडिया, ये मेरा इंडिया,

आई लव माय इंडिया, आई लव माय इंडिया……

जब छेड़ा मल्हार किसी ने, झूम के सावन आया,

आग लगा दी पानी में जब, दीपक राग सुनाया,

सात सुरों का संगम ये जीवन गीतों की माला,

हम अपने भगवान को भी कहते हैं बांसुरी वाला,

बांसुरी वाला, बांसुरी वाला

यह मेरा इंडिया, आई लव माय इंडिया……

यह मेरा इंडिया, आई लव माय इंडिया……

पीहू पीहू बोले पपीहा, कोयल कुहू कुहू गाए,

हंसते रोते हमने जीवन के सब गीत बनाए,

यह सारी दुनिया अपने अपने गीतों को गाए,

गीत वो गाओ जिससे इस मिट्टी की खुशबू आए,

मिट्टी की खुशबू आए, आई लव इंडिया, आई लव माय इंडिया……

आई लव इंडिया, आई लव माय इंडिया……

वतन मेरा इंडिया, सजन मेरा इंडिया

ये दुनिया ये दुनिया, इक दुल्हन, इक दुल्हन

ये दुनिया, इक दुल्हन, दुल्हन के माथे की बिंदिया,

ये मेरा इंडिया, यह मेरा इंडिया,

आई लव माय इंडिया, आई लव माय इंडिया……

वतन मेरा इंडिया, सजन मेरा इंडिया

करम मेरा इंडिया, धरम मेरा इंडिया…

हो माय इंडिया, हो माय इंडिया, हो माय इंडिया, हो माय इंडिया,

जान माय इंडिया,

जिस देश में गंगा बहती है

होठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफाई रहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है।

होठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफाई रहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है।

मेहमां जो हमारा होता है, वो जान से प्यारा होता है,

मेहमां जो हमारा होता है, वो जान से प्यारा होता है,

ज्यादा की नहीं लालच हमको, थोड़े में गुजारा होता है,

थोड़े में गुजारा होता है,

बच्चों के लिए जो धरती मां, सदियों से सभी कुछ सहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है।

कुछ लोग जो ज्यादा जानते हैं, इंसान को कम पहचानते हैं,

कुछ लोग जो ज्यादा जानते हैं, इंसान को कम पहचानते हैं,

ये पूरब है पूरब वाले, हर जान की कीमत जानते हैं,

हर जान की कीमत जानते हैं,

मिल जुल के रहो और प्यार करो, एक चीज यही जो रहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है

होठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफाई रहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है।

हम कल क्या थे हम आज हैं क्या इसका ही नहीं अभिमान हमें,

हम कल क्या थे हम आज हैं क्या इसका ही नहीं अभिमान हमें,

जिस राह पे आगे बढ़ना है, है उसकी भी पहचान हमें,

है उसकी भी पहचान हमें,

इस धारा को किसने रोका, ये बंधके भला कब रहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है

जो जिससे मिला सीखा हमने, गैरों को भी अपनाया हमने,

जो जिससे मिला सीखा हमने, गैरों को भी अपनाया हमने,

मतलब के लिए अंधे होकर, रोटी को नहीं पूजा हमने,

रोटी को नहीं पूजा हमने,

अब हम तो क्या सारी दुनिया, सारी दुनिया से कहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं

जिस देश में गंगा बहती है।

होठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफाई रहती है,

हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं,

जिस देश में गंगा बहती है।

जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा

जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा,

वो भारत देश है मेरा।

गुरुब्रह्मा गुरुविष्णु

गुरुदेव महेश्वरा

गुरु साक्षात परब्रह्म

तत्समये श्री गुरुवे नम:

जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जहां सत्य अहिंसा और धर्म का पग-पग लगता डेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जय भारती, जय भारती, जय भारती, जय भारती

ये धरती वो जहां ॠषि मुनि जपते प्रभु नाम की माला,

हरि ओम, हरि ओम, हरि ओम, हरि ओम,

जहां हर बालक एक मोहन है और राधा हर एक बाला,

और राधा हर एक बाला,

जहां सूरज सबसे पहले आकर डाले अपना फेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जहां गंगा, जमुना, कृष्ण और कावेरी बहती जाए,

जहां उत्तर, दक्षण, पूरब, पश्चिम को अमृत पिलवाए,

ये अमृत पिलवाए,

कहीं ये तो फल और फूल उगाए केशर कहीं बिखेरा

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

अलबेलों की इस धरती के त्योहार भी हैं अलबेले,

कहीं दीवाली की जगमग है, होली के कहीं मेले,

कहीं दीवाली की जगमग है, होली के कहीं मेले,

होली के कहीं मेले,

जहां राग रंग और हंसी खुशी का चारों ओर है घेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जहां आसमां से बातें करते मंदिर और शिवाले,

जहां किसी नगर में किसी द्वार पर कोई न ताला डाले

कोई न ताला डाले

और प्रेम की बंसी जहां बजाता आए शाम सवेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जहां सत्य अहिंसा और धर्म का पग-पग लगता डेरा,

वो भारत देश है मेरा। वो भारत देश है मेरा।

जय भारती, जय भारती, जय भारती, जय भारती

देश रंगीला रंगीला गीत डाउनलोड

यहाँ हर कदम कदम पे धरती बदले रंग

यहाँ की बोली मे रंगोली सात रंग

यहाँहर कदम कदम पे धरती बदले रंग

यहाँ की बोली मे रंगोली सात रंग

धानी पगड़ी पहने मौसम है

नीली चादर ताने अम्बर है

नदी सुनहरी हरा समुन्दर है रे सजीला

देस रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला….

 

सिन्दूरी गालो वाला सूरज जो करे ठिठोली

शर्मीले खेतो को ढंक दे चुनर पीली पीली

घूंघट मे रंग पनघट मे रंग चम् चम् चमकीला

देस रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला..

 

अबिल गुलाल से चेहरे है यहाँ मस्तानो की टोली

रंग हसी मे रंग ख़ुशी मे रिश्ते जैसे होली

बातो मे रंग यादो मे रंग रंग रंग रंगीला

देस रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला…

 

इश्क का रंग यहाँ पर गहरा चढ़ के कभी न उतरे

सछे प्यार का ठहरा सा रंग छलके पर न बिखरे

रंग अदा मे रंग हया मे है रसीला

देस रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला…

 

यहाँ हर कदम कदम पे धरती बदले रंग

यहाँ की बोली मे रंगोली सात रंग

धानी पगड़ी पहने मौसम हैं

नीली चादर ताने अम्बर हैं

नदी सुनहरी हरा समुन्दर है रे सजीला

देस रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला..

 

हो रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला

देस रंगीला रंगीला देस मेरा रंगीला….

ऐ मेरे वतन के लोगों ज़रा आँख में भर लो पानी

संगीतकार सी. रामचंद्र
गीतकार कवि प्रदीप
गायक लता मंगेशकर

ऐ मेरे वतन के लोगों, तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सबका, लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर, वीरों ने है प्राण गंवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो, कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर न आये, जो लौट के घर न आये

ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब घायल हुआ हिमालय, ख़तरे में पड़ी आज़ादी
जब तक थी साँस लडे वो
जब तक थी साँस लडे वो, फिर अपनी लाश बिछा दी
संगीन पे धर कर माथा, सो गये अमर बलिदानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब देश में थी दीवाली, वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में, वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो अपने, थी धन्य वो उनकी जवानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

कोई सिख कोई जाट मराठा, कोई सिख कोई जाट मराठा
कोई गुरखा कोई मद्रासी, कोई गुरखा कोई मद्रासी
सरहद पर मरने वाला, सरहद पर मरने वाला
हर वीर था भारतवासी

जो खून गिरा पर्वत पर, वो खून था हिन्दुस्तानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

थी खून से लथपथ काया, फिर भी बंदूक उठाके
दस दस को एक ने मारा, फिर गिर गये होश गँवा के
जब अंत समय आया तो,

जब अंत समय आया तो कह गये के अब मरते हैं
जब अंत समय आया तो कह गये के अब मरते हैं
खुश रहना देश के प्यारों, खुश रहना देश के प्यारों
अब हम तो सफ़र करते हैं, अब हम तो सफ़र करते हैं

क्या लोग थे वो दीवाने, क्या लोग थे वो अभिमानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

तुम भूल ना जाओ उनको इसलिए कही ये कहानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जय हिंद, जय हिंद की सेना
जय हिंद, जय हिंद की सेना
जय हिंद जय हिंद जय हिंद

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों

फिल्म हकीकत
संगीतकार मदन मोहन
गीतकार कैफ़ी आज़मी
गायक मोहम्मद रफ़ी

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

साँस थमती गई, नब्ज़ जमती गई
फिर भी बढ़ते कदम को ना रुकने दिया
कट गये सर हमारे तो कुछ ग़म नहीं
सर हिमालय का हमने न झुकने दिया
मरते-मरते रहा बाँकपन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

ज़िन्दा रहने के मौसम बहुत हैं मगर
जान देने की रुत रोज़ आती नहीं
हुस्न और इश्क दोनों को रुसवा करे
वो जवानी जो खूँ में नहाती नहीं
आज धरती बनी है दुल्हन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

राह कुर्बानियों की ना वीरान हो
तुम सजाते ही रहना नये काफ़िले
फ़तह का जश्न इस जश्न के बाद है
ज़िन्दगी मौत से मिल रही है गले
बाँध लो अपने सर से कफ़न साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

खेंच दो अपने खूँ से जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो हाथ अगर हाथ उठने लगे
छूने पाये ना सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए

फिल्म कर्मा
संगीतकार लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार आनंद बक्शी
गायक कविता कृष्णमूर्ति, मोहम्मद अजीज

मेरा कर्मा तू, मेरा धर्मा तू,

तेरा सब कुछ मैं, मेरा सब कुछ तू,

आ आ आ….

 

हर करम अपना करेंगे,

हर करम अपना करेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

हर करम अपना करेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

हर करम अपना करेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

तू मेरा कर्मा, तू मेरा धर्मा,

तू मेरा अभिमान है,

ऐ वतन महबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है,

ऐ वतन महबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है,

हम जिएंगे और मरेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई,

हम वतन, हम नाम हैं,

हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई,

हम वतन, हम नाम हैं,

जो करे इनको जुदा मजहब नहीं इल्जाम है,

हम जिएंगे और मरेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

तेरी गलियों में चलाकर नफरतों की गोलियां,

लूटते हैं कुछ लुटेरे दुल्हनों की डोलियां,

लूटते हैं कुछ लुटेरे दुल्हनों की डोलियां,

लुट रहे हैं आप वो अपने घरों को लूट कर,

लुट रहे हैं आप वो अपने घरों को लूट कर,

खेलते हैं बेखबर अपने लहू से होलियां,

हम जिएंगे और मरेंगे ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए

हर करम अपना करेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

हर करम अपना करेंगे,

ऐ वतन तेरे लिए,

दिल दिया है,

जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए,

ऐ वतन तेरे लिए, ऐ वतन तेरे लिए, ऐ वतन तेरे लिए

ला ला ला ला…

नेएचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके आप Desh Bhakti Geet Lyrics PDF in Hindi को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।


देश भक्ति गीत 2022 | Desh Bhakti Geet Lyrics PDF Download Link

RELATED PDF FILES