PDFSource

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF Download

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF Details
कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा
PDF Name कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF
No. of Pages 7
PDF Size 0.81 MB
Language English
Categoryहिन्दी | Hindi
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads31
If कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF प्राप्त कर सकते हैं। भगवान कृष्ण हिन्दू धर्म के सर्वाधिक लोकप्रिय देवों में से एक हैं। बृज क्षेत्र में मुख्य रूप से भगवान कृष्ण की पूजा अर्चना की जाती है। भगवान कृष्ण की कथा में उनकी शक्तियों व चमत्कारों का वर्णन प्राप्त होता है।

यदि आप भगवान कृष्ण की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको अधिक कुछ करने की अवश्यकता नहीं है। आप अपनी निर्मल भक्ति व भावपूर्ण सेवा से ही भगवान श्री कृष्ण को सरलता से प्रसन्न कर सकते हैं तथा उनकी कृपा प्राप्त करके अपना जीवन सुगम बना सकते हैं। यदि आप श्री कृष्ण भगवान के संदर्भ में अधिक जानना चाहते हैं तो पीडीएफ़ डाउनलोड करें।

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF

भगवान श्रीकृष्ण का जन्म त्रैता युग में हुआ था। पौरणिक कथाओं में बताया गया है की कृष्ण का जन्म द्वापर और त्रेता युग के बीच कंस के कारगार में हुआ था। कारगार में श्री कृष्ण को माता देवकी ने जन्म दिया था। देवकी कंस की बहन थी और देवकी का विवाह वासुदेव से हुआ था। विवाह के बाद कंस अपनी बहन देवकी को वासुदेव के राज्य में छोड़ने जा रहा था तभी आकाशवाणी हुई जिसमें यह कहा गया की देवकी की होने वाली 8वीं संतान कंस का वध करेगी। यह सुनकर कंस ने देवकी और वासुदेव को कारगार में डाल दिया और उनकी सातों संतानों को मार डाला।

और आंठवीं संतान कृष्ण ने जब जन्म लिया उसी समय वृंदावन में नंद और यशोदा ने बच्ची को जन्म दिया था तभी वासुदेव वृंदावन में कृष्ण को यशोदा मैय्या के पास कृष्ण को उनके पास सुलाकर बच्ची को लेकर वापस कारागार लौट आए। कंस उस रात गहरी नींद में सो रहा था। उसको सारी वाक्य नहीं मालूम पड़ा। बच्ची को देवकी की आखरी और आठवीं संतान समझकर मारना चाहा, लेकिन उस समय बच्ची ने देवी का रुप लिया और कंस से कहा कि तेरा काल गौकुल पहुंच चुका है। उसके बाद कंस ने गोकुल में श्री कृष्ण को मारने के कई प्रयास किए किंतु वे सभी असफल रहे।

श्री कृष्ण ने किया कंस का वध

कंस ने कृष्ण को मारने का आदेश राक्षसनी पूतना को देते हुए गोकुल भेजा। लेकिन श्री कृष्ण को भला पूतना कहा मार सकती थी और पूतना द्वारा कृष्ण को स्तनपान कराने पर उन्होंने पूतना को काट लिया जिसके दर्द के कारण पूचना मर गई। लेकिन कंस को अपनी मृत्यु का भय तो सता ही रहा था। इसलिए उसने फिर एक राक्षस कृष्ण को मारने के लिए भेजा, जिस समय कृष्ण अपने मित्रों के साथ खेल रहे थे उस समय राक्षस बगुले का रुप धारण कर आया जिससे उनके सभी मित्र डर गए। लेकिन श्री कष्ण कहा डरने वाले थे उन्होंने उस बगले के पैर को पकड़ा और मित्रों से बोले देखो ये कुछ नहीं करता। उसी दौरान बगुले ने उनपर हमला कर दिया।

लेकिन कृष्ण ने उसका वध कर उसे नर्क लोक पहुंचा दिया, तभी से उस राक्षस का नाम वकासुर पड़ गया। वकासुर के बाद कालिया नाग और कालिया नाग जैसे सभी राक्षसों का एक-एक कर श्री कृष्ण ने वध कर दिया और अंततः वृंदावन में कालिया और धनुक का वध करने के बाद कंस समझ गया था कि ज्योतिष भविष्यवाणी के बाद इतने बल शाली किशोर देवकी और वासुदेव के पुत्र ही हो सकते है और उन्हें मथुरा आने का न्यौता दिया जिसके बाद कृष्ण और बलराम मथुरा पहुंचे। मथुरा पहुंचने के बाद उन्होंने उपने शिरोमणि चाणूर और मुष्टिक को मारकर कंस का भी वध कर दिया। कंस का वध करने के बाद पिता उग्रसेन को फिर से राजा बना दिया गया।

उज्जैन सांदीपनि आश्रम में ली श्री कृष्ण ने शिक्षा-दिक्षा

किशोरावस्था में कंस के षंडयंत्रों को विफल करने के बाद उनका अज्ञातवास समाप्त हुआ और राज्य का भय भी। इसके बाद उनके पिता ने दोनों भाईयों कृष्ण और बलराम को शिक्षा और दीक्षा के लिए उज्जैन सांदीपनि आश्रम भेज दिया। उज्जैन में सांदीपनि आश्रम में कृष्ण और बलराम दोनों भाईयों ने शस्त्र अस्त्र के साथ शास्त्रों का ज्ञान प्राप्त किया। आश्रम में कृष्ण भगवान की मुलाकात सुदामा से हुई। जो उनके अच्छे दोस्त के साथ गुरू भाई भी हुए। कृष्ण और सुदामा की दोस्ती के किस्से काफी सुनते आए हैं। लोग उनकी दोस्ती की मिसाल भी देते हैं। आश्रम से शिक्षा दिक्षा प्राप्त करने के बाद कृष्ण राजा बन गए।

द्वारिका में हुआ रुक्मिणी और श्रीकृष्ण का विवाह

द्वारिका में रुक्मिणी और श्रीकृष्ण के विवाह की भव्य तैयारी हुई और विवाह संपन्न हुआ। मध्यप्रदेश के धार जिले में बसा कस्बा है अमझेरा जहां से श्री कृष्ण नें रुक्मिणि का अपहरण किया था। द्वापरकाल में कुंदनपुर के नाम से विख्यात था। यहां राजा भीष्मक का राज्य था। उनके पांच पुत्र थए रुक्मी, कूक्मरत, रुक्मबाहु, रुक्मकेश, रुक्ममाली और एक बेहद खूबसूरत पुत्री थी रुक्मणी। राजा भीष्मक ने रुक्मणि का विवाह चंदेरी के राजा शिशुपाल से तय कर दिया लेकिन रुक्मणि स्वयं को श्रीकृष्ण को अर्पित कर चुकी थी। जब उसे अपनी सखी से पता चला कि उसका विवाह तय कर दिया गया है तब रुक्मणि ने वृद्ध ब्राह्मण के साथ कृष्ण को संदेश भेजा।

कृष्ण रुक्मणि का पत्र पाते ही कुंदनपुर की ओर निकल पड़े। वहां से उन्होंने रुक्मिणी का अपहरण करन उन्हें का हरण करके उसे द्वारकापुरी ले गए। वहां कृष्ण का पीछा करते हुए शिशुपाल भी पहुंचे और उसके बाद बलराम और यदुवंशियों ने बड़ी वीरता के साथ लड़कर शिशुपाल आदि की सेना को नष्ट कर दिया। भगवान श्रीकृष्ण ने रुकमणी को द्वारका ले जाकर उनके साथ विधिवत विवाह किया। प्रद्युम्न उन्हीं के गर्भ से उत्पन्न हुए थे, जो कामदेव के अवतार थे। श्रीकृष्ण की पटरानियों में रुकमणी का महत्त्वपूर्ण स्थान था। उनके प्रेम और उनकी भक्ति पर भगवान श्रीकृष्ण मुग्ध थे। उनके प्रेम और उनकी कई कथाएं मिलती हैं, जो बड़ी प्रेरक हैं।

कुरुक्षेत्र का महाभारत युद्ध

पीतांबरधारी चक्रधर भगवान कृष्ण महाभारत युद्ध में सारथी की भूमिका में थे। उन्होंने अपनी यह भूमिका स्वयं चयन की थी। अपने सुदर्शन चक्र से समस्त सृष्टि को क्षण भर में मुट्ठी भर राख बनाकर उड़ा देने वाले या फिर समस्त सृष्टि के पालनकर्ता भगवान कृष्ण महाभारत में अपने प्रिय सखा धनुर्धारी अर्जुन के सारथी बने थे। इस बात से अर्जुन को बड़ा ही अटपटा लग रहा था कि उसके प्रिय सखा कृष्ण रथ को हांकेंगे। सारथी की भूमिका ही नहीं, बल्कि महाभारत रूपी महायुद्ध की पटकथा भी उन्हीं के द्वारा लिखी गई थी और युद्ध से पूर्व ही अधर्म का अंत एवं धर्म की विजय वह सुनिश्चित कर चुके थे। उसके बाद भी उनका सारथी की भूमिका को चुनना अर्जुन को असहज कर देने वाला था। कृष्ण और अर्जुन के बीच बातचीत को भगवद् गीता नामक एक ग्रन्थ के रूप में प्रस्तुत किया गया है।

द्वारिका में पेड़ के नीचे हुई थी कृृष्ण की मृत्यु

द्वारिका को उन्होंने अपना निवास स्थान बनाया और सोमनाथ के पास स्थित प्रभास क्षेत्र में उन्होंने देह छोड़ दी। प्रभास के यादव युद्ध में चार प्रमुख व्यक्तियों ने भाग नहीं लिया, जिससे वे बच गये, ये थे- कृष्ण, बलराम, दारुक सारथी और वभ्रु। बलराम दु:खी होकर समुद्र की ओर चले गये और वहाँ से फिर उनका पता नहीं चला। कृष्ण बड़े मर्माहत हुए। वे द्वारका गये और दारुक को अर्जुन के पास भेजा कि वह आकर स्त्री-बच्चों को हस्तिनापुर लिवा ले जायें। कुछ स्त्रियों ने जलकर प्राण दे दिये।

अर्जुन आये और शेष स्त्री-बच्चों को लिवा कर चले। कहते हैं कि मार्ग में पश्चिमी राजपूताना के जंगली आभीरों से अर्जुन को मुक़ाबला करना पड़ा। कुछ स्त्रियों को आभीरों ने लूट लिया। शेष को अर्जुन ने शाल्व देश और कुरु देश में बसा दिया। कृष्ण शोकाकुल होकर घने वन में चले गये थे। वे चिंतित हो लेटे हुए थे कि ‘जरा’ नामक एक बहेलिये ने हिरण के भ्रम से तीर मारा। वह बाण श्रीकृष्ण के पैर में लगा, जिससे शीघ्र ही उन्होंने इस संसार को छोड़ दिया। मृत्यु के समय वे संभवत: 100 वर्ष से कुछ ऊपर थे। कृष्ण के देहांत के बाद द्वापर युग का अंत और कलियुग का आरंभ हुआ।

कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF प्राप्त करने के लिए नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।


कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा PDF Download Link

Report a Violation
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If कृष्ण भगवान की सम्पूर्ण जीवन गाथा is a copyright, illigal or abusive material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.

हिन्दी | Hindi PDF