वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF

वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF Download

वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF Details
वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe
PDF Name वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF
No. of Pages 4
PDF Size 1.54 MB
Language English
Categoryहिन्दी | Hindi
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप वह शक्ति हमें दो दयानिधे / Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF हिन्दी भाषा में प्राप्त कर सकते हैं। वह शक्ति हमें दो दयानिधे एक अत्यधिक प्रचलित व लोकप्रिय प्रार्थना है। भारत के अधिकांश विद्यालयों में इस प्रार्थना का प्रतिदिन गायन किया जाता है।

संभवतः आपने भी अपने विद्यालय में इस प्रार्थना को गाया व सुना होगा। इस प्रार्थना में रचनाकार सर्वोच्च सत्ता से अपने कर्तव्यों के समुचित निर्वाह हेतु शक्ति प्रदान करने का आग्रह कर रहा है। इस प्रार्थना को करने से हमारे चित्त में एक सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है तथा मानसिक शांति का अनुभव भी होता है।

यदि आप इस प्रार्थना को नियमित अपने इष्ट के समक्ष करते हैं तो आपका उस परम सत्ता पर विश्वास प्र्गाण होता है तथा आत्मविश्वास में भी वृद्धि होती है। हालांकि इस प्रार्थना के रचयिता को लेकर इतिहासकारों व विद्वानों का भिन्न – भिन्न मत है। अतः कुछ लोग इस प्रार्थना को श्री मुरारीलाल शर्मा बालबन्धु जी द्वारा रचित बताते हैं, तो वहीं कुछ लोग इसे श्री परशुराम पाण्डेय जी की रचना मानते हैं।

वह शक्ति हमें दो दयानिधे PDF / Vah Shakti Hame Do Dayanidhe Prayer Lyrics PDF

वह शक्ति हमें दो दयानिधे,
कर्त्तव्य मार्ग पर डट जावें!
पर-सेवा पर-उपकार में हम,
जग-जीवन सफल बना जावें!

हम दीन-हीन निबलों-विकलों के
सेवक बन संताप हरें!
जो हैं अटके, भूले-भटके,
उनको तारें खुद तर जावें!

छल, दंभ-द्वेष, पाखंड-झूठ,
अन्याय से निशिदिन दूर रहें!
जीवन हो शुद्ध सरल अपना,
शुचि प्रेम-सुधा रस बरसावें!

निज आन-बान, मर्यादा का
प्रभु ध्यान रहे अभिमान रहे!
जिस देश-जाति में जन्म लिया,
बलिदान उसी पर हो जावें!

वह शक्ति हमें दो दयानिधे PDF निशुल्क डाउनलोड करने के लिए नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।


वह शक्ति हमें दो दयानिधे | Wah Shakti Hame Do Dayanidhe PDF Download Link

RELATED PDF FILES