PDFSource

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha PDF in Hindi

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha Hindi PDF Download

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha PDF Details
कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha
PDF Name कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha PDF
No. of Pages 5
PDF Size 0.83 MB
Language Hindi
CategoryEnglish
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
Tags: If कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha Hindi

Friends in this article we are going to share कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF / Kartik Purnima Vrat Katha PDF in Hindi with you. Purnima has special significance in Hinduism. The full moon of Shukla Paksha of Kartik month is called Kartik Purnima. Goddess Lakshmi is worshiped on the day of Kartik Purnima. Many religious works including charity and charity performed on this day are particularly fruitful. Kartik month is considered to be the best month among all the months. In this month, people donate more, whether it is food and clothes.

Purnima fasting is considered to be of great importance in Sanatan Dharma. By fasting on the full moon day, the moon becomes dominant in the horoscope. The scholars of Vedic astrology say that if the Mahadasha and Antardasha of the Moon is going on in your horoscope, then Purnima fast must be done. Kartik Purnima Vrat Katha must be read during Purnima Vrat.

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha PDF in Hindi

पौराणिक कथा के अनुसार तारकासुर नाम का एक राक्षस था. उसके तीन पुत्र थे- तारकक्ष, कमलाक्ष और विद्युन्माली. भगवान शिव के बड़े पुत्र कार्तिक ने तारकासुर का वध किया। अपने पिता की हत्या की खबर सुन तीनों पुत्र बहुत दुखी हुए. तीनों ने मिलकर ब्रह्माजी से वरदान मांगने के लिए घोर तपस्या की ब्रह्माजी तीनों की तपस्या से प्रसन्न हुए और बोले कि मांगों क्या वरदान मांगना चाहते हो. तीनों ने ब्रह्मा जी से अमर होने का वरदान मांगा, लेकिन ब्रह्माजी ने उन्हें इसके अलावा कोई दूसरा वरदान मांगने को कहा।

इसके बाद तीनों ने किसी दूसरे वरदान के बारे में सोचा और इस बार ब्रह्माजी से तीन अलग नगरों का निर्माण करवाने के लिए कहा- जिसमें सभी बैठकर सारी पृथ्वी और आकाश में घूमा जा सके। एक हजार साल बाद जब हम मिलें और हम तीनों के नगर मिलकर एक हो जाएं और जो देवता तीनों नगरों को एक ही बाण से नष्ट करने की क्षमता रखता हो, वही हमारी मृत्यु का कारण हो। ब्रह्माजी ने उन्हें ये वरदान दे दिया।

तीनों वरदान पाकर बहुत खुश हुए. ब्रह्माजी के कहने पर मयदानव ने उनके लिए तीन नगरों का निर्माण किया. तारकक्ष के लिए सोने का, कमला के लिए चांदी का और विद्युन्माली के लिए लोहे का नगर बनाया गया। तीनों ने मिलकर तीनों लोकों पर अपना अधिकार जमा लिया. इंद्र देवता इन तीनों राक्षसों से भयभीत हुए और भगवान शंकर की शरण में गए. इंद्र की बात सुन भगवान शिव ने इन दानवों का नाश करने के लिए एक दिव्य रथ का निर्माण किया।

इस दिव्य रथ की हर एक चीज देवताओं से बनीं. चंद्रमा और सूर्य से पहिए बने. इंद्र, वरुण, यम और कुबेर रथ के चार घोड़े बनें. हिमालय धनुष बने और शेषनाग प्रत्यंचा बनें। भगवान शिव खुद बाण बनें और बाण की नोंक बने अग्निदेव. इस दिव्य रथ पर सवार हुए खुद भगवान शिव. भगवानों से बनें इस रथ और तीनों भाइयों के बीच भयंकर युद्ध हुआ। जैसे ही ये तीनों रथ एक सीध में आए, भगवान शिव ने बाण छोड़ तीनों का नाश कर दिया. इसी वध के बाद भगवान शिव को त्रिपुरारी कहा जाने लगा। यह वध कार्तिक मास की पूर्णिमा को हुआ, इसीलिए इस दिन को त्रिपुरी पूर्णिमा नाम से भी जाना जाने लगा।

You may also like:

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha

रथ सप्तमी व्रत कथा PDF | Rath Saptami Vrat Katha

शनि देव व्रत कथा | Shani Dev Vrat Katha

निर्जला एकादशी व्रत कथा | Nirjala Ekadashi Vrat Katha

महालक्ष्मी व्रत कथा PDF | Mahalaxmi Vrat Katha

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha 

पूर्णिमा व्रत कथा PDF / Purnima Vrat Katha

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF / Kartik Purnima Vrat Katha PDF in Hindi मुफ्त में डाउनलोड कर सकते है।


कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha PDF Download Link

Report This
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.