PDFSource

महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha PDF in Hindi

महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha Hindi PDF Download

महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha PDF Details
महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha
PDF Name महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha PDF
No. of Pages 8
PDF Size 0.58 MB
Language Hindi
CategoryEnglish
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
Tags: If महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha Hindi

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको महाशिवरात्रि व्रत कथा PDF / Maha Shivratri Vrat Katha PDF in Hindi के लिए डाउनलोड लिंक दे रहे हैं। इस साल महाशिवरात्रि व्रत 1 मार्च दिन मंगलवार को है। इस दिन पूरे विधि विधान से पूजा अर्चना कर शिवजी के भक्त श्रद्धा पूर्वक व्रत रखते हैं और अपनी इच्छाओं की पूर्ति हेतु मंत्र जाप भी करते हैं। ऐसी मान्यता है, कि इसी दिन भगवान शिव का माता पार्वती के साथ विवाह हुआ  था। यदि आप भोलेनाथ की विशेष कृपा पाने के लिए उनका यह पावन व्रत करने वाले है, तो यहां आप महाशिवरात्रि की पूजा विधि, समय और सामग्री लिस्ट देख सकते हैं। इस पोस्ट से आप बड़ी आसानी से सिर्फ एक क्लिक में शिवरात्रि व्रत कथा PDF / Shivratri Vrat Katha PDF in Hindi डाउनलोड कर सकते हैं।

यदि आप महाशिवरात्रि का व्रत करने वाले हैं, तो उस दिन सबसे पहले आप नित्य क्रिया से निवृत्त होकर भगवान शिव की प्रतिमा के सामने पूजा का संकल्प लें। आज हम अपने इस लेख के माध्यम से आपको बताने वाले हैं कि इस महाशिवरात्रि शिवजी की पूजा करते समय आपको किन-किन सामग्रियों का प्रयोग करना चाहिए।

जो भी भक्त रावण रचित शिव तांडव स्तोत्र का पाठ करते हैं उनसे शिव शंकर भोलेनाथ बहुत प्रशन्न होते है। श्री शिवरामाष्टक स्तोत्रम् स्तोत्र का लगातार 11 बार पाठ करने से व्यक्ति की बुद्धि एवं ज्ञान में विशेष वृद्धि होती है। भक्तजनों को ॐ जय शिव ओमकारा आरती का गायन भी करना चाहिए वैसे भी यह भक्तों की प्रिय आरती है। जो भी शिव जी के बड़े भक्त हैं और महाशिवरात्रि का व्रत रखते है उन्हें इस दिन  विधि अनुसार महा शिवरात्रि अभिषेक भी करना चाहिए। शिव सूत्र ऐसे ग्रंथ हैं जो आध्यात्मिकता के पथ पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं। शिव सहस्रनाम स्तोत्र हिंदू परंपरा में एक प्रकार का भक्तिपूर्ण भजन है जिसमें एक देवता के कई नाम सूचीबद्ध हैं। भोलेनाथ जी की पूजा-अर्चना कर के शिव जी आरती अवश्य करनी चाहिए तभी पूजा सफल होती है।

महाशिवरात्रि व्रत कथा PDF | Maha Shivratri Vrat Katha PDF in Hindi

प्राचीन काल में, किसी जंगल में एक गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार करता तथा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था |एक बार शिव-रात्रि के दिन जब वह शिकार के लिए निकला , पर संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई शिकार न मिला, उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा इस बात से वह चिंतित हो गया , सूर्यास्त होने पर वह एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहाँ ज़रूर आयेगा |वह पेड़ ‘बेल-पत्र’ का था और उसी पेड़ के नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढके होने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था ।

रात का पहला प्रहर बीतने से पहले एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा ऐसा करने में, उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी |हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी, तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर, शिकारी से , कांपते हुए स्वर में बोली- ‘मुझे मत मारो ।’ शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता |हिरणी ने वादा किया कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी| तब वह उसका शिकार कर ले । शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था |उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है; समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जल-धाराएँ गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है । क्रूर होने के बावजूद भी, शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने ‘जल्दी लौटना’ कहकर , उस हिरनी को जाने दिया ।

थोड़ी ही देर बाद एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो गया, तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए, उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेलपत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी । इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर ,हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है ,उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है । उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया ।

अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा |इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर शिकारी बड़ा प्रसन्न हुआ ,अब फिर धनुष पर बाण चढाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वतः ही संपन्न हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज़ से वह हिरन सावधान हो गया । उसने शिकारी को देखा और पूछा –“ तुम क्या करना चाहते हो ?” वह बोला-“अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा ।” वह मृग प्रसन्न हो कर कहने लगा – “मैं धन्य हूँ कि मेरा यह शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा पर कृपया कर अभी मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहाँ लौट आऊं ।” शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह विनयपूर्वक बोला –‘ जो-जो यहाँ आये ,सभी बातें बनाकर चले गये और अभी तक नहीं लौटे ,यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे ,तो मेरे परिजनों का क्या होगा ?” अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये; तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता । शिकारी ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि ‘शीघ्र लौट आना ।’

रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस शिकारी के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था । उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिव-पूजा संपन्न हो गयी । अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गये इसलिए वह सोचने लगा-‘ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने परिवार का पालन करता रहा ।’ अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा मृगों से कहा की वे सब धन्य है तथा उन्हें वापिस जाने दिया । उसके ऐसा करने पर भगवान् शंकर ने प्रसन्न हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर “गुह’’ नाम प्रदान किया । मित्रों, यही वह गुह था जिसके साथ भगवान् श्री राम ने मित्रता की थी ।

शिव जी जटाओं में गंगाजी को धारण करने वाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले,मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे नेत्र वाले ,कंठ में कालपाश [नागराज] तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित , हाथ में डमरू और त्रिशूल है जिनके और भक्तगण बड़ी श्रद्दा से जिन्हें शिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकी पूजा-अर्चना किया करते हैं —– ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन को सदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवं सबकी मनोकामनाएं पूरी करें।

महाशिवरती पूजा मुहूर्त 2022 | Maha Shivratri Puja Muhurat

  • पहले पहर की पूजा-1 मार्च की शाम को 06 बजकर 21 मिनट रात के 9 बजकर 27 मिनट तक
  • दूसरे पहर  की पूजा-1 मार्च की रात्रि 9 बजकर 27 मिनट से रात्रि के 12 बजकर 33 मिनट तक
  • तीसरे पहर की पूजा-1 मार्च की रात 12 बजकर 33 मिनट से सुबह  3 बजकर 39 मिनट तक
  • चौथे पहर  की पूजा-2 मार्च की सुबह 3 बजकर 39 मिनट से 6 बजकर 45 मिनट तक
  • पारण का समय-2 मार्च सुबह 6 बजकर 45 मिनट के बाद पारण का समय है

You may also like:

नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha

वीरवार की व्रत कथा | Veervar Vrat Katha

आमलकी एकादशी व्रत कथा | Amalaki Ekadashi Vrat Katha

Dasha Mata Vrat Katha 2022

भानु सप्तमी व्रत कथा | Bhanu Saptami Vrat Katha

विजया एकादशी व्रत कथा | Vijaya Ekadashi Vrat Katha

Vishnu Bhagwan Vrat Katha & Arti

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप महाशिवरात्रि व्रत कथा PDF / Maha Shivratri Vrat Katha PDF in Hindi मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं।


महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha PDF Download Link

Report This
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If महाशिवरात्रि व्रत कथा | Maha Shivratri Vrat Katha is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published.