नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF

नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Download

नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Details
नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam
PDF Name नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF
No. of Pages 3
PDF Size 0.07 MB
Language English
CategoryEnglish
Source pdfsource.org
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
Tags:

नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam

Dear friends, today we are going to present Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Download for all of you. As per the Hindu Vedic scriptures, Namami Shamishan Nirvan Roopam is one of the most powerful and beautiful hymns. It is known as Rudrarashtakam Stotra in the Sanskrit language. This divine hymn is dedicated to Lord Shiva.

In the Sanatan Hindu Dharma Lord Shiva is considered one of the most worshipped deities. Lord Shiva is also known by various names including Mahakal, Trikaldarshi, Shakar, Bholenath etc. By reciting Namami Shamishan Nirvan Roopam people get rid of many types of health-related issues very soon.

There are many devotees who recite it every day with full devotion to get the special blessings of Lord Shiva. It is said that by reciting it daily in the morning people get free from every type of obstacle in their life. So guys if you also want to seek the special blessings of Lord Shiva then you should recite Namami Shamishan Nirvan Roopam with full dedication every day or only Monday.

नमामि शमीशान PDF Download / Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Lyrics in Sanskrit

नमामीशमीशान निर्वाण रूपं, विभुं व्यापकं ब्रह्म वेदः स्वरूपम् ।

निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं, चिदाकाश माकाशवासं भजेऽहम् ॥

निराकार मोंकार मूलं तुरीयं, गिराज्ञान गोतीतमीशं गिरीशम् ।
करालं महाकाल कालं कृपालुं, गुणागार संसार पारं नतोऽहम् ॥

तुषाराद्रि संकाश गौरं गभीरं, मनोभूत कोटि प्रभा श्री शरीरम् ।
स्फुरन्मौलि कल्लोलिनी चारू गंगा, लसद्भाल बालेन्दु कण्ठे भुजंगा॥

चलत्कुण्डलं शुभ्र नेत्रं विशालं, प्रसन्नाननं नीलकण्ठं दयालम् ।
मृगाधीश चर्माम्बरं मुण्डमालं, प्रिय शंकरं सर्वनाथं भजामि ॥

प्रचण्डं प्रकष्टं प्रगल्भं परेशं, अखण्डं अजं भानु कोटि प्रकाशम् ।
त्रयशूल निर्मूलनं शूल पाणिं, भजेऽहं भवानीपतिं भाव गम्यम् ॥

कलातीत कल्याण कल्पान्तकारी, सदा सच्चिनान्द दाता पुरारी।
चिदानन्द सन्दोह मोहापहारी, प्रसीद प्रसीद प्रभो मन्मथारी ॥

न यावद् उमानाथ पादारविन्दं, भजन्तीह लोके परे वा नराणाम् ।
न तावद् सुखं शांति सन्ताप नाशं, प्रसीद प्रभो सर्वं भूताधि वासं ॥

न जानामि योगं जपं नैव पूजा, न तोऽहम् सदा सर्वदा शम्भू तुभ्यम् ।
जरा जन्म दुःखौघ तातप्यमानं, प्रभोपाहि आपन्नामामीश शम्भो ॥

रूद्राष्टकं इदं प्रोक्तं विप्रेण हर्षोतये
ये पठन्ति नरा भक्तयां तेषां शंभो प्रसीदति।।

॥  इति श्रीगोस्वामितुलसीदासकृतं श्रीरुद्राष्टकं सम्पूर्णम् ॥

नमामि शमीशान निर्वाण रूपं अर्थ सहित PDF / Namami Shamishan Nirvan Roopam Meaning in Hindi

हे मोक्षरूप, विभु, व्यापक ब्रह्म, वेदस्वरूप ईशानदिशा के ईश्वर और सबके स्वामी शिवजी, मैं आपको नमस्कार करता हूं। निज स्वरूप में स्थित, भेद रहित, इच्छा रहित, चेतन, आकाश रूप शिवजी मैं आपको नमस्कार करता हूं।

निराकार, ओंकार के मूल, तुरीय वाणी, ज्ञान और इन्द्रियों से परे, कैलाशपति, विकराल, महाकाल के भी काल, कृपालु, गुणों के धाम, संसार से परे परमेशवर को मैं नमस्कार करता हूं।

जो हिमाचल के समान गौरवर्ण तथा गंभीर हैं, जिनके शरीर में करोड़ों कामदेवों की ज्योति एवं शोभा है, जिनके सिर पर सुंदर नदी गंगाजी विराजमान हैं, जिनके ललाट पर द्वितीया का चंद्रमा और गले में सर्प सुशोभित है।

जिनके कानों में कुंडल शोभा पा रहे हैं। सुंदर भृकुटी और विशाल नेत्र हैं, जो प्रसन्न मुख, नीलकंठ और दयालु हैं। सिंह चर्म का वस्त्र धारण किए और मुण्डमाल पहने हैं, उन सबके प्यारे और सबके नाथ श्री शंकरजी को मैं भजता हूं।

प्रचंड, श्रेष्ठ तेजस्वी, परमेश्वर, अखण्ड, अजन्मा, करोडों सूर्य के समान प्रकाश वाले, तीनों प्रकार के शूलों को निर्मूल करने वाले, हाथ में त्रिशूल धारण किए, भाव के द्वारा प्राप्त होने वाले भवानी के पति श्री शंकरजी को मैं भजता हूं।

कलाओं से परे, कल्याण स्वरूप, प्रलय करने वाले, सज्जनों को सदा आनंद देने वाले, त्रिपुरासुर के शत्रु, सच्चिदानन्दघन, मोह को हरने वाले, मन को मथ डालनेवाले हे प्रभो, प्रसन्न होइए, प्रसन्न होइए।

जब तक मनुष्य श्री पार्वतीजी के पति के चरणकमलों को नहीं भजते, तब तक उन्हें न तो इस लोक में, न ही परलोक में सुख-शांति मिलती है और अनके कष्टों का भी नाश नहीं होता है। अत: हे समस्त जीवों के हृदय में निवास करने वाले प्रभो, प्रसन्न होइए।

मैं न तो योग जानता हूं, न जप और न पूजा ही। हे शम्भो, मैं तो सदा-सर्वदा आप को ही नमस्कार करता हूं। हे प्रभो! बुढ़ापा तथा जन्म के दुख समूहों से जलते हुए मुझ दुखी की दुखों से रक्षा कीजिए। हे शंभो, मैं आपको नमस्कार करता हूं।

जो भी मनुष्य इस स्तोत्र को भक्तिपूर्वक पढ़ते हैं, उन पर भोलेनाथ विशेष रूप से प्रसन्न होते हैं।

You may also like:

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र PDF । Navagraha Peeda Parihara Stotram Lyrics Sanskrit

विष्णु सूक्त | Vishnu Suktam Sanskrit

कालभैरव अष्टकमी | Kalabhairava Ashtakam Sanskrit

Brahma Purana

बृहस्पति मंत्र | Brihaspati Mantra Sanskrit

नारायण कवच PDF | Narayan Kavach Sanskrit

रुद्रम नमकम चमकम | Rudram Namakm Chamakm Sanskrit

नीचे दिये गए लिंक के माध्यम से आप Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Download कर सकते हैं।


नमामि शमीशान PDF | Namami Shamishan Nirvan Roopam PDF Download Link