Qurbani ki Dua PDF in Hindi

Qurbani ki Dua Hindi PDF Download

Qurbani ki Dua Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

Qurbani ki Dua PDF Details
Qurbani ki Dua
PDF Name Qurbani ki Dua PDF
No. of Pages 1
PDF Size 0.07 MB
Language Hindi
CategoryEnglish
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

Qurbani ki Dua Hindi

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए Qurbani ki Dua PDF प्रदान करने जा रहे हैं। मुस्लिम समुदाय के अनुसार,  कुर्बानी की दुआ बहुत ही खास दुआ होती है, इस दुआ को मुसलमान समुदाय के द्वारा ईद के अवसर पर कुर्बानी देते समय पढ़ा जाता है। एक मुस्लिम समुदाय के अनुसार मान जाता है कि इस दुआ को पढ़ना बेहद जरूरी नहीं है।

इसे बिना पढ़े भी सिर्फ बिस्मिल्लाहि अल्लाह हू अकबर कहकर भी कुर्बानी दी जा सकती है। इसी के साथ बहुत से लोग यह भी मानते हैं कि अगर कुर्बानी की दुआ को ईद के अवसर पर पढ़ लिया जाए तो इससे सवाब ज्यादा हासिल होता है। जिन लोगों को यह दुआ याद नहीं है, तो वो किसी और से भी दुआ पढ़वा सकते हैं, और जब वह अल्लाहु अकबर कहे तब कुर्बानी की प्रक्रिया को कर सकते हैं।

कई हदीसों में आया है, कुर्बानी की दुआ खुद पढ़ कर कुर्बानी का जानवर ज़िब्ह करना अफजल है; और इससे ज्यादा सवाब हासिल होता है, लेकिन अगर किसी और से दुआ पढ़ाई जाए तो वह भी मुकम्मल मानी जाती है। अगर आप Qurbani ki Dua in Hindi PDF के बारे में और अधिक कांकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Qurbani ki Dua PDF / Qurbani ki Dua in Hindi PDF

न्नी वज्जह्तुवज्हि -य लि ल्लज़ी फ़-त-रस्समावाति वल अर-ज़ अला मि ल्लति इब्राही- म हनीफ़ंव व मा अना
मि नल मश्रिुश्रिकीन इन-न सलाती व नसु कु ी व महया-य व ममाती लि ल्लाहि रब्बि ल आ ल मी न ला शरी-क लहू
व बि ज़ालि -क उमि र्तु व अना मि नल मस्लिुस्लि मीन अल्लाहुम-म मि न-क व ल-क अन ० बि स्मि ल्लाह वल्लाहू
अकबर।

Qurbani Ki Dua in Arabic Text

إِنِّي وَجَّهْتُ وَجْهِيَ لِلَّذِي فَطَرَ السَّمَوَاتِ وَالأَرْضَ حَنِيفًا وَمَا أَنَا مِنَ الْمُشْرِكِينَ

إِنَّ صَلاَتِي وَنُسُكِي وَمَحْيَاىَ وَمَمَاتِي

لِلَّهِ رَبِّ الْعَالَمِينَ

لاَ شَرِيكَ لَهُ وَبِذَلِكَ أُمِرْتُ وَأَنَا أَوَّلُ الْمُسْلِمِينَ

اللَّهُمَّ مِنْكَ وَلَكَ عَنْ مُحَمَّدٍ وَأُمَّتِهِ

(بِسْمِ اللَّهِ وَاللَّهُ أَكْبَرُ)

Qurbani ki Dua Hindi Translation / Qurbani ki Dua in Hindi Meaning

मैंने उस ज़ात की तरफ़ अपना रुख मोड़ा जिसने आसमानों को और जमीनों को पैदा किया, इस हाल में मैं इब्राहीम में हनीफ़ के दीन पर हूं और मश्रिुश्रिको में सेनहीं हूँ। बेशक मेरी नमाज़ और मेरी इबादत और मेरा मरना और जीना सब अल्लाह के लिए है जो रब्बलु आलमीन है,

जिसका कोई शरीक नहींऔर मुझे इसी का हुक्म दिया गया है और मैं फरमाबरदारों में से हूं। ऐ अल्लाह, यह कुर्बानी तेरी तौफ़ीक़ से हैऔर तेरे लिए है।

Benefits of Reading Dua When Making Qurbani (Qurbani Ke Waqt Ki Dua)

कुर्बानी बनाते समय दुआ पढ़ने के फायदे (कुर्बानी के वक्त की दुआ)

इस्लाम ने हमें मसनून दुआ का तोहफा दिया है, और कुर्बानी के वक्त की दुआ उनमें से एक है। किसी भी दुआ को पढ़ना जैसे कि कुर्बानी बनाते समय इसे पढ़ने के लिए अल्लाह का आशीर्वाद हमारे पास रहता है। हम कुरबानी के वक्त की दुआ जैसे कई मसनून दुआओं को अक्सर दिल से याद करते हैं, लेकिन हम नहीं जानते कि इसका क्या मतलब है, क्योंकि हम गैर-अरब मुसलमान हैं।

किसी भी गतिविधि को करने के लिए मसनून दुआ का पाठ करना अनिवार्य नहीं है; फिर भी, जब हम क़ुर्बानी के वक़्त की दुआ पढ़ते हैं, तो यह हमें दिखाता है कि हम इस गतिविधि को कितने अच्छे तरीके से करते हैं। साथ ही, इन कुछ शब्दों को पढ़कर जिन्हें हम आसानी से दिल से सीख सकते हैं, हम अल्लाह SWT से अच्छा इनाम कमा सकते हैं।

Qurbani ki Dua in Hindi PDF – (FAQs)

कुर्बानी की दुआ हिंदी में क्या होती है? / Qurbani ki Dua kya hoti hai?

इसका जवाब आपको हमने ऊपर दे दिया है तथा आप इसके जवाब को दी गयी PDF से भी प्राप्त कर सकते हैं।

कुरबानी का जानवर कैसा खरीदें?

कुर्बानी का जानवर खरीदने से पहले कुछ सावधानी बरतनी बहुत ही जरूरी है; क्योंकि अगर कुर्बानी का जानवर सही नहीं होगा यानी वह शरियत के मुताबिक नहीं हुआ तो कुर्बानी नहीं मानी जाएगी। कुर्बानी का जानवर खरीदते वक्त आपको यह देखना है, कि जानवर तंदुरुस्त हो उसकी आंखें ठीक हों, पैर ठीक हो और तंदुरुस्त हो साथ ही साथ यह भी देखें कि कहीं उसके शरीर में गोश्त की कमी तो नहीं या कमजोर तो नहीं।

रसूल अल्लाह सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने फरमाया जब तुम कुरबानी का जानवर खरीदने जाओ तो इन जानवरों को खरीदने से बचो।

  • लंगडा।
  • भैंगा।
  • बिमार।
  • कमज़ोर।

लंगडा जानवर।

कुर्बानी का जानवर खरीदते वक्त आपको यह देखना है, कि जो आप जानवर खरीदने जा रहे हैं, वह लंगड़ा तो नहीं है; क्योंकि लंगड़े जानवर पर जिसका लंगड़ापन जाहिर हो रहा हो उसकी कुर्बानी देना जायज नहीं।

भैंगा जानवर।

ऐसा कोई जानवर जो भैंगा हो और जिसका भैंगापन साफ जाहिर हो रहा हो तो उसकी कुर्बानी देने से बचना चाहिए।

बिमार जानवर की क़ुरबानी ना दें।

जब आप कुर्बानी का जानवर खरीदने जाएं तो अपने जानवर में यह जरूर देखें कि कहीं वह बीमार तो नहीं है; बीमारी चाहे जैसी भी हो आपको उस जानवर को नहीं खरीदना है। ऐसे जानवर जिन की बीमारी जाहिर हो रही होती है, तो उस पर कुर्बानी नहीं मानी जाती।

कमज़ोर जानवर।

कमजोर जानवर या कहें ऐसे जानवर जिनके बदन पर गोश्त नहीं होता या वह छोटे हैं; तो उन पर कुर्बानी नहीं देनी चाहिए ऐसा सख्त मना किया गया है।

कुरबानी का जानवर कैसा खरीदें? / Qurbani ka janwar kaisa kharidna chahiye?

हदीसों के मुताबिक कुर्बानी का जानवर एकदम तंदुरुस्त होना चाहिए उसके शरीर का हर एक हिस्सा ठीक होना चाहिए और सही सलामत काम करना चाहिए। ऐसे जानवर पर कुर्बानी जायज नहीं जो कमजोर हो और जिसके बदन में गोश्त कम हो या वह कम उम्र का हो।

हुज़ैफा रज़ी अल्लाहु अन्हा से रिवायत है, रसूल अल्लाह सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने फरमाया जब हम कुर्बानी का जानवर खरीदने के लिए जाएं तो जानवर की आंखें और कान अच्छे तरीके से देख लें।

एक इंसान कितनी कुरबानी कर सकता है? / Ek insan kitni qurbani kar sakta hai?

वैसे तो यह बात हम सभी जानते हैं, कि कुर्बानी का सवाब लेने के लिए एक ही जानवर की कुर्बानी काफी है; और अगर अल्लाह ने आपको ज्यादा माल से नवाजा है, तो आप ज्यादा कुर्बानी भी दे सकते हैं, इसमें कोई बुराई नहीं है। अगर आपको अल्लाह ने माल ओ दौलत से नवाजा है, तो आप जितनी और जिस भी जानवर की चाहे उतनी कुर्बानी कर सकते हैं; लेकिन सवाब पाने के लिए एक कुर्बानी तो जरूरी है।

अगर आप ऐसे इंसान हैं, जिसके पास अल्लाह ने बहुत सारा माल दिया है; और जो ढेर सारा जानवर कुर्बान कर रहा है, 2022 के बकरीद में तो उसे नीचे लिखे कुछ नियमों को मानना पड़ेगा।

  • कुर्बानी का गोश्त बर्बाद ना होने दें क्योंकि जब कोई शख्स ढेर सारे जानवरों को कुर्बान करता है; तो उनके ढेर सारे गोश्त निकलते हैं और अगर इन गोश्त को बांटा ना गया तो यह खराब हो जाएंगे जिसका अज़ाब कुर्बानी देने वाले को मिलेगा।
  • सारा का सारा गोश्त खुद ही ना खा जाए कुछ गरीबों मे बाटें तो कुछ रिश्तेदारों मे और जो बचा उसे अपने लिए रख लें। ऐसा देखा गया है कि लोग कुर्बानी का गोश्त बांटते नहीं हैं और सोचते हैं, कि खुद ही खाकर खत्म कर देंगे लेकिन कर नहीं पाते तो वो गोश्त खराब हो जाता है, जिसका गुनाह मिलता है।
  • लोगों को दिखाने के लिए ढेर सारे जानवरों की कुर्बानी ना दें सिर्फ उतना ही दें जितना आप बांट और खा सकते हैं।

नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके आप Qurbani ki Dua in Hindi PDF Download कर सकते हैं।


Qurbani ki Dua PDF Download Link