श्री राम स्तुति | Ram Stuti PDF in Hindi

श्री राम स्तुति | Ram Stuti Hindi PDF Download

श्री राम स्तुति | Ram Stuti Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

श्री राम स्तुति | Ram Stuti PDF Details
श्री राम स्तुति | Ram Stuti
PDF Name श्री राम स्तुति | Ram Stuti PDF
No. of Pages 3
PDF Size 0.65 MB
Language Hindi
CategoryReligion & Spirituality
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

श्री राम स्तुति | Ram Stuti Hindi

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप श्री राम स्तुति PDF | Ram Stuti PDF in Hindi प्राप्त कर सकते हैं। श्री राम जी हिंदू धर्म में पूजे जाने वाले प्रमुख देवताओं में से एक हैं। भारत समेत पूरी दुनिया में श्री रामजी की पूजा बड़े धूमधाम से की जाती है। श्री राम जी के आदर्शों पर सभी को चलना चाहिए। इस पोस्ट से आप आसानी से Ram Stuti Lyrics PDF / Ram Stuti Lyrics PDF को हिंदी में अर्थ के साथ केवल एक क्लिक में आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

अगर आप भी अपने जीवन में भगवान श्री रामजी की कृपा पाकर अपना जीवन बदलना चाहते हैं और भगवान श्री राम की कृपा पाना चाहते हैं तो श्री राम स्तुति का पाठ अवश्य करें। यह एक बहुत ही सुंदर भजन है, जिसके गायन से न केवल भगवान श्री राम जी प्रसन्न होते हैं, बल्कि श्री हनुमान जी भी अपनी कृपा बरसाते हैं।

श्री राम स्तुति PDF | Ram Stuti PDF in Hindi

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन, हरण भाव भय दारुणम्।

नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।।

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्।

पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम्।।

भजु दीन बंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम्।

रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम्।।

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं।

आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धूषणं।।

इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम्।

मम ह्रदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम्।।

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरों।

करुना निधान सुजान सिलू सनेहू जानत रावरो।।

एही भांती गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषी अली।

तुलसी भवानी पूजि पूनी पूनी मुदित मन मंदिर चली।।

।।सोरठा।।

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।

मंजुल मंगल मूल वाम अंग फरकन लगे।।

राम स्तुति अर्थ सहित PDF

रे मन! कृपालु (कृपालु, दयालु) श्री रामचंद्रजी की पूजा करने से वे संसार के जन्म और मृत्यु के भय को दूर करते हैं। उनकी आंखें नव विकसित कमल के समान हैं। मुख, हाथ और पैर भी लाल कमल के समान हैं।

उनकी सुंदरता की सीमा अनगिनत (असंख्य, असंख्य) कामदेवों की तुलना में अधिक है। उसके शरीर में एक नए नीले-पानी के बादल की तरह एक सुंदर रंग है। पीतांबर बादल का शरीर बिजली की तरह चमक रहा है। ऐसे पावन स्वरूप जानकीपति श्री रामजी को मेरा प्रणाम है।

रे मन! दीन के भाई, सूर्य के समान तेज, राक्षसों और राक्षसों के वंश का संहारक, आनंदकांड, कोशल-देश के आकाश में शुद्ध चंद्रमा की तरह, दशरथनंदन श्री राम की पूजा करते हैं।

जिनके मस्तक पर रत्न जड़ित मुकुट, कानों में कुण्डली, भाले पर तिलक तथा प्रत्येक अंग में सुन्दर आभूषण सुशोभित हैं। जिनकी बाहें घुटनों तक लंबी होती हैं। वह जो धनुष-बाण धारण किए हुए हो, जिसने युद्ध में खर-दूषण पर विजय प्राप्त की हो 4॥

तुलसीदास प्रार्थना करते हैं कि जो शिव, शेषजी और ऋषियों के मन को प्रसन्न करता है और काम, क्रोध, लोभ के शत्रुओं का नाश करता है। श्री रघुनाथजी सदा मेरे कमल हृदय में निवास करें।

जिसमें आपका मन लग गया है, आपको स्वभाव से सुंदर काला आदमी (श्री रामचंद्रजी) मिलेगा। वह करुणा निधि (दया का खजाना) और सुजान (सर्वज्ञानी, सर्वज्ञ) विनम्र है। अपने प्यार को जानता है 6

इस प्रकार श्री गौरी जी का आशीर्वाद सुनकर जानकी जी सहित सभी मित्र मन ही मन प्रसन्न हो उठे। तुलसीदासजी कहते हैं- भवानी की बार-बार पूजा करने के बाद सीताजी प्रसन्न मन से महल में लौट आईं।

गौरीजी को जानकर सीताजी के हृदय में जो आनंद आया, वह अनुकूल है, कहा नहीं जा सकता। सुंदर मंगलो की जड़ें उसके बाएं अंगों में कांपने लगीं 8॥

You can download श्री राम स्तुति PDF | Ram Stuti PDF in Hindi by using the following download link.


श्री राम स्तुति | Ram Stuti PDF Download Link

RELATED PDF FILES