ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra PDF in Hindi

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra Hindi PDF Download

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra PDF Details
ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra
PDF Name ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra PDF
No. of Pages 4
PDF Size 0.68 MB
Language Hindi
CategoryReligion & Spirituality
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra Hindi

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए ऋणमोचक मंगल स्तोत्र PDF / Rinmochan Mangal Stotra PDF in Hindi प्रदान करने जा रहे हैं। ऋणमोचक मंगल स्तोत्र एक बहुत ही दिव्य एवं चमत्कारी स्तोत्र है। यह दिव्य स्तोत्र श्री हनुमान जी को समर्पित है। इस स्तोत्र के पाठ से हनुमान जी शीघ्र ही प्रसन्न होते हैं। इस स्तोत्र का पाठ करने से व्यक्ति किसी भी प्रकार के कर्ज़ से तत्काल ही मुक्त हो जाता है। इस स्तोत्र के पाठ करते समय शुद्धता का अवश्य ध्यान रखना चाहिए।

ऐसा माना जाता है कि जो भी व्यक्ति बहुत लंबे समय से कर्ज़ से ग्रसित है, और इससे छुटकारा पाना चाहता है परंतु इस समस्या का हल नहीं हो पा रहा तो अगर वह इस प्रभावशाली ऋणमोचन मंगल स्तोत्र का हृदयपूर्वक एवं विधि-विधान से प्रत्येक मंगलवार को पाठ कर ले तो वह इस समस्या से शीघ्र ही निजात पा सकता है। क्योंकि इस स्तोत्र का पाठ करने व्यक्ति पर हनुमान जी के साथ-साथ प्रभु श्री राम जी की भी विशेष कृपा होती है। क्योंकि हनुमान जी प्रभु श्री राम जी के अत्यंत ही प्रिय भक्त है।

भक्तजनों को पूजा-अर्चना  करने के बाद हनुमान जी की आरती अवश्य करनी चाहिए। प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को हनुमान चालीसा पाठ करना भी बहुत लाभदायी होता है। अगर आपको बजरंगबली से मन चाहा वर पाना है तो  हनुमान अष्टक पाठ करना बहुत ही सरल उपाय है। श्री हनुमान बाहुक स्तोत्र का सच्चे मन से पाठ करने से हनुमान जी शीघ्र ही प्रसन्न होकर अपने भक्तों पर विशेष कृपा बरसाते हैं। श्री बजरंग बाण अत्यंत तीव्र एवं अति प्रभावशाली होता है। यदि आप हनुमान जी की विशेष कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो बजरंग बाण का नियमित रूप से पाठ करना चाहिए।जो भी हनुमान रक्षा स्तोत्र का पाठ करता है, उस पर श्री हनुमान जी के साथ -साथ प्रभु श्री राम जी की कृपा भी प्राप्त होती है।हनुमान चालीसा आरती का सच्चे मन से गायन करने से भी जीवन में आने वाली विभिन्न प्रकार की परेशानियों दूर  हो जाती हैं। वानर गीता का नियमपूर्वक पाठ करने से सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं और जीवन में उर्जा का संचालन होता है।

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का पाठ / Rinmochan Mangal Stotra Lyrics

मङ्गलो भूमिपुत्रश्च ऋणहर्ता धनप्रदः।

स्थिरासनो महाकयः सर्वकर्मविरोधकः ॥1॥

लोहितो लोहिताक्षश्च सामगानां कृपाकरः।

धरात्मजः कुजो भौमो भूतिदो भूमिनन्दनः॥2॥

अङ्गारको यमश्चैव सर्वरोगापहारकः।

व्रुष्टेः कर्ताऽपहर्ता च सर्वकामफलप्रदः॥3॥

एतानि कुजनामनि नित्यं यः श्रद्धया पठेत्।

ऋणं न जायते तस्य धनं शीघ्रमवाप्नुयात्॥4॥

धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम्।

कुमारं शक्तिहस्तं च मङ्गलं प्रणमाम्यहम्॥5॥

स्तोत्रमङ्गारकस्यैतत्पठनीयं सदा नृभिः।

न तेषां भौमजा पीडा स्वल्पाऽपि भवति क्वचित्॥6॥

अङ्गारक महाभाग भगवन्भक्तवत्सल।

त्वां नमामि ममाशेषमृणमाशु विनाशय॥7॥

ऋणरोगादिदारिद्रयं ये चान्ये ह्यपमृत्यवः।

भयक्लेशमनस्तापा नश्यन्तु मम सर्वदा॥ 8 ||

अतिवक्त्र दुरारार्ध्य भोगमुक्त जितात्मनः।

तुष्टो ददासि साम्राज्यं रुश्टो हरसि तत्ख्शणात्॥9॥

विरिंचिशक्रविष्णूनां मनुष्याणां तु का कथा।

तेन त्वं सर्वसत्त्वेन ग्रहराजो महाबलः॥10॥

पुत्रान्देहि धनं देहि त्वामस्मि शरणं गतः।

ऋणदारिद्रयदुःखेन शत्रूणां च भयात्ततः॥11॥

एभिर्द्वादशभिः श्लोकैर्यः स्तौति च धरासुतम्।

महतिं श्रियमाप्नोति ह्यपरो धनदो युवा॥12॥

|| इति श्री ऋणमोचक मङ्गलस्तोत्रम् सम्पूर्णम् ||

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का पाठ कैसे करें ?

  • इस स्तोत्र का पाठ करने के लिए आप सर्वप्रथम नहा-धोकर स्वच्छ हो जाएँ।
  • इसके बाद एक लकड़ी की चौकी पर लाल कपड़ा बिछाएं।
  • अब उस चौकी पर श्री हनुमान जी की मूर्ति को स्थापित करें।
  • तत्पश्चात अपने बाएं हाथ की तरफ देशी घी का दीप प्रज्ज्वलित करें।
  • इसके बाद दाएं हाथ की तरफ तिल के तेल का दीप प्रज्वलित करें।
  • तदोपरांत हनुमान जी को गुड़ व चना का भोग अर्पित करें।
  • अब श्रद्धापूर्वक श्री ऋणमोचन मंगल स्तोत्र का पाठ करें।
  • इस पाठ के संपन्न होने पर हनुमान जी की आरती अवश्य करें।
  • अंत में हनुमान जी से अपने और अपने परिवार के लिए आशीर्वाद ग्रहण करें।

ऋणमोचक मंगल स्तोत्र के लाभ / Rin Mochan Mangal Stotra Benefits in Hindi

  • इस स्तोत्र का पाठ करने से हनुमान जी भक्तों को विशेष कृपा प्राप्त होती है।
  • इस दिव्य स्तोत्र के पाठ करने से हनुमान जी शीघ्र ही प्रसन्न हो जाते हैं।
  • ऋणमोचन मंगल स्तोत्र के पाठ से व्यक्ति किसी भी प्रकार के कर्ज़ से शीघ्र ही छुटकारा पा लेता है।
  • अगर कोई मनुष्य आर्थिक तंगी से ग्रसित हो तो वह इस स्तोत्र का पाठ करने से शीघ्र ही इस समस्या से मुक्ति पा लेता है।
  • इस स्तोत्र के पाठ से व्यक्ति के धन-आगमन के मार्ग में आने वाली बाधाएं तत्काल दूर होने लगती है।

 

You may also like:

Bajrang Baan In English

Hanuman Chalisa in English

पंच मुख हनुमत कवच | Pancha Mukha Hanumath Kavach

एक मुखी हनुमान कवच PDF | Ek Mukhi Hanuman Kavach

यंत्रोद्धारक हनुमान स्तोत्र | Yantrodharaka Hanuman Stotra

पंचमुखी हनुमान कवच | Panchmukhi Hanuman Kavach

हनुमान चालीसा गीता प्रेस गोरखपुर | Hanuman Chalisa Gita Press Gorakhpur

हनुमान चालीसा बजरंग बाण संकट मोचन PDF । Hanuman Chalisa Bajrang Baan Sankat Mochan

नीचे दिये गए लिंक का उपयोग करके आप ऋणमोचक मंगल स्तोत्र PDF / Rinmochan Mangal Stotra PDF को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।


ऋणमोचक मंगल स्तोत्र | Rinmochan Mangal Stotra PDF Download Link

RELATED PDF FILES