समास | Samas PDF in Hindi

समास | Samas Hindi PDF Download

समास | Samas Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

समास | Samas PDF Details
समास | Samas
PDF Name समास | Samas PDF
No. of Pages 7
PDF Size 0.51 MB
Language Hindi
CategoryEducation & Jobs
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

समास | Samas Hindi

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप समास PDF | Samas in Hindi PDF प्राप्त कर सकते हैं। समास का अर्थ है ‘संक्षिप्त’। दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बने नए और अर्थपूर्ण शब्द को यौगिक कहते हैं। हिन्दी व्याकरण में बहुत महत्व है और विभिन्न प्रकार की रचनाओं में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

यौगिक से बनने वाले शब्दों को संयुक्त शब्द कहते हैं। इसे समस्तपद भी कहते हैं। विलय के बाद, विभक्ति (पूर्वसर्ग) के संकेत गायब हो जाते हैं। राजकुमार की तरह। समस-विग्रह समसा-विग्रह के शब्दों के बीच संबंध को स्पष्ट करने के लिए समसा-विग्रह कहलाता है। देवता के बाद, सामसिक शब्द गायब हो जाते हैं जैसे- राज+पुत्र-राजा का पुत्र। समास छह प्रकार के होते हैं जैसे अव्ययी भव, तत्पुरुष, द्विगु, द्वाद्वा, बहुवृहि, कर्मधारय आदि।

समास | Samas PDF – Summary

समास के भेद का चार्ट | Types Of Samas

समास के छः भेद हैं:

  • अव्ययीभाव
  • तत्पुरुष
  • द्विगु
  • द्वन्द्व
  • बहुव्रीहि
  • कर्मधारय

1. अव्ययीभाव 

जिस समास का पूर्व पद प्रधान होता है, और वह अनिश्चित होता है, वह अव्य्यभाव समास कहलाता है। उदाहरण के लिए, इन यथ और आ में यतामती (मान्यता के अनुसार), आमरण (मृत्यु तक) अपरिहार्य हैं। जहां एक ही शब्द को बार-बार दोहराया जाता है, वहां एक प्रत्यय अभिव्यक्ति होती है जैसे दिन, रात, घर, घर, हाथ आदि।

कुछ अन्य उदाहरण –

  • आजीवन – जीवन-भर
  • यथासामर्थ्य – सामर्थ्य के अनुसार
  • यथाशक्ति – शक्ति के अनुसार
  • यथाविधि- विधि के अनुसार
  • यथाक्रम – क्रम के अनुसार
  • भरपेट- पेट भरकर
  • हररोज़ – रोज़-रोज़
  • हाथोंहाथ – हाथ ही हाथ में
  • रातोंरात – रात ही रात में
  • प्रतिदिन – प्रत्येक दिन
  • बेशक – शक के बिना
  • निडर – डर के बिना
  • निस्संदेह – संदेह के बिना
  • प्रतिवर्ष – हर वर्ष

2. तत्पुरुष समास

तत्पुरुष समास – जिस शरीर में उत्तरपद प्रधान और पूर्वपद गौण हो, वह तत्पुरुष समास कहलाता है। उदाहरण के लिए – तुलसीदासकृत = तुलसीदास द्वारा रचित (रचित)

ज्ञातव्य– विग्रह में जो कारक प्रकट हो उसी कारक वाला वह समास होता है।

विभक्तियों के नाम के अनुसार तत्पुरुष समास के छह भेद हैं-

  1. कर्म तत्पुरुष (द्वितीया कारक चिन्ह) (गिरहकट – गिरह को काटने वाला)
  2. करण तत्पुरुष (मनचाहा – मन से चाहा)
  3. संप्रदान तत्पुरुष (रसोईघर – रसोई के लिए घर)
  4. अपादान तत्पुरुष (देशनिकाला – देश से निकाला)
  5. संबंध तत्पुरुष (गंगाजल – गंगा का जल)
  6. अधिकरण तत्पुरुष (नगरवास – नगर में वास)

3. द्विगु समास

जिस यौगिक का पूर्ववृत्त संख्यात्मक विशेषण होता है, उसे दोहरा यौगिक कहते हैं। इससे समूह या समूह का बोध होता है। जैसे  –

समस्त पद समास-विग्रह समस्त पद समास-विग्रह
नवग्रह नौ ग्रहों का समूह दोपहर दो पहरों का समाहार
त्रिलोक तीन लोकों का समाहार चौमासा चार मासों का समूह
नवरात्र नौ रात्रियों का समूह शताब्दी सौ अब्दो (वर्षों) का समूह
अठन्नी आठ आनों का समूह त्रयम्बकेश्वर तीन लोकों का ईश्वर

4. द्वंद्व समास

जिस समास में दोनों श्लोक प्रमुख हैं, और जब देवता की पूजा की जाती है, तो ‘और’, या, ‘या’, और योगात्मक के लक्षण होते हैं, जिसे द्वैत समसा कहा जाता है। उदाहरण के लिए, माता-पिता, भाई-बहन, राजा और रानी, ​​दुख और सुख, दिन और रात, राजा और प्रजा। समान प्रकृति के शब्दों के बीच “और” का प्रयोग किया जाता है और भिन्न (विपरीत) प्रकृति के शब्दों के बीच “या” का प्रयोग किया जाता है। उदाहरण: माता-पिता = माता और पिता (एक ही प्रकृति) गाय-भैंस = गाय और भैंस (एक ही प्रकृति) धर्मधर्म = धर्म या अधर्म (विपरीत प्रकृति) सुरसुर = सुर या असुर (विपरीत प्रकृति)

द्वंद्व समास के तीन भेद होते हैं- इतरेतर द्वंद्व, समाहार द्वंद्व, वैकल्पिक द्वंद्व

5. बहुव्रीहि समास

जिस यौगिक में दोनों पद गौण हों और समस्तपद के अर्थ के अतिरिक्त कोई प्रतीकात्मक अर्थ प्रधान हो, उसे बहुवृहि समास कहते हैं। पसंद –

समस्त पद समास-विग्रह
दशानन दश है आनन (मुख) जिसके अर्थात् रावण
नीलकंठ नीला है कंठ जिसका अर्थात् शिव
सुलोचना सुंदर है लोचन जिसके अर्थात् मेघनाद की पत्नी
पीतांबर पीला है अम्बर (वस्त्र) जिसका अर्थात् श्रीकृष्ण
लंबोदर लंबा है उदर (पेट) जिसका अर्थात् गणेशजी
दुरात्मा बुरी आत्मा वाला ( दुष्ट)
श्वेतांबर श्वेत है जिसके अंबर (वस्त्र) अर्थात् सरस्वती जी

6. कर्मधारय समास

जिस समास का उत्तपदा प्रधान होता है और पूर्वपद और उत्तपाद में विशेषण-विशेष या उपमन-उपयम का सम्बन्ध होता है, वह कर्मधारय समस कहलाता है। उदा. भवसागर (संसार का सागर); घनश्याम (बादल की तरह काला)

समस्त पद समास-विग्रह समस्त पद समास-विग्रह
चंद्रमुख चंद्र जैसा मुख कमलनयन कमल के समान नयन
देहलता देह रूपी लता दहीबड़ा दही में डूबा बड़ा
नीलकमल नीला कमल पीतांबर पीला अंबर (वस्त्र)
सज्जन सत् (अच्छा) जन नरसिंह नरों में सिंह के समान

You can download Samas in Hindi PDF by clicking on the following download button.


समास | Samas PDF Download Link

RELATED PDF FILES