PDFSource

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha PDF in Hindi

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha Hindi PDF Download

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha PDF Details
सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha
PDF Name सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha PDF
No. of Pages 10
PDF Size 7.82 MB
Language Hindi
CategoryEnglish
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
Tags: If सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha Hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आये हैं सत्यनारायण व्रत कथा PDF / Satyanarayan Vrat Katha PDF in Hindi जिसमे आपको पूजा के सारे सामान की सूची, पूजा विधि और व्रत कथा पढ़ने को मिलेगी। सत्यनारायण पूजा हिंदू भगवान विष्णु की एक धार्मिक अनुष्ठान पूजा है। इस पूजा का वर्णन मध्यकालीन युग के संस्कृत पाठ स्कंद पुराण में किया गया है। माधुरी यदलपति के अनुसार, सत्यनारायण पूजा इस बात का एक आदर्श उदाहरण है कि कैसे “हिंदू पूजा भक्ति पूजा की अंतरंगता को सुविधाजनक बनाती है जबकि एक बड़े पवित्र दुनिया में कृतज्ञतापूर्वक भाग लेने की विनम्र भावना को सक्षम करती है।

पूजा सत्यनारायण कथा का वर्णन करती है, जो विभिन्न सांसारिक और आध्यात्मिक लाभों को बताती है जो पूजा कलाकारों को लाती है। कथा बताती है कि कैसे देवता नारायण कलियुग के दौरान अपने भक्तों की सहायता करने का संकल्प लेते हैं, हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान में चार युगों में से अंतिम, विशेष रूप से सत्यनारायण पूजा के कलाकार और उपस्थित लोग।

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha PDF in Hindi

एक समय की बात है नैषिरण्य तीर्थ में शौनिकादि, अठ्ठासी हजार ऋषियों ने श्री सूतजी से पूछा हे प्रभु! इस कलियुग में वेद विद्या रहित मनुष्यों को प्रभु भक्ति किस प्रकार मिल सकती है? तथा उनका उद्धार कैसे होगा? हे मुनि श्रेष्ठ ! कोई ऎसा तप बताइए जिससे थोड़े समय में ही पुण्य मिलें और मनवांछित फल भी मिल जाए। इस प्रकार की कथा सुनने की हम इच्छा रखते हैं। सर्व शास्त्रों के ज्ञाता सूत जी बोले: हे वैष्णवों में पूज्य ! आप सभी ने प्राणियों के हित की बात पूछी है इसलिए मैं एक ऎसे श्रेष्ठ व्रत को आप लोगों को बताऊँगा जिसे नारद जी ने लक्ष्मीनारायण जी से पूछा था और लक्ष्मीपति ने मनिश्रेष्ठ नारद जी से कहा था। आप सब इसे ध्यान से सुनिए –

एक समय की बात है, योगीराज नारद जी दूसरों के हित की इच्छा लिए अनेकों लोको में घूमते हुए मृत्युलोक में आ पहुंचे। यहाँ उन्होंने अनेक योनियों में जन्मे प्राय: सभी मनुष्यों को अपने कर्मों द्वारा अनेकों दुखों से पीड़ित देखा। उनका दुख देख नारद जी सोचने लगे कि कैसा यत्न किया जाए जिसके करने से निश्चित रुप से मानव के दुखों का अंत हो जाए। इसी विचार पर मनन करते हुए वह विष्णुलोक में गए। वहाँ वह देवों के ईश नारायण की स्तुति करने लगे जिनके हाथों में शंख, चक्र, गदा और पद्म थे, गले में वरमाला पहने हुए थे।

स्तुति करते हुए नारद जी बोले: हे भगवान! आप अत्यंत शक्ति से संपन्न हैं, मन तथा वाणी भी आपको नहीं पा सकती हैं। आपका आदि, मध्य तथा अंत नहीं है। निर्गुण स्वरुप सृष्टि के कारण भक्तों के दुख को दूर करने वाले है, आपको मेरा नमस्कार है। नारद जी की स्तुति सुन विष्णु भगवान बोले: हे मुनिश्रेष्ठ! आपके मन में क्या बात है? आप किस काम के लिए पधारे हैं? उसे नि:संकोच कहो। इस पर नारद मुनि बोले कि मृत्युलोक में अनेक योनियों में जन्मे मनुष्य अपने कर्मों के द्वारा अनेको दुख से दुखी हो रहे हैं। हे नाथ! आप मुझ पर दया रखते हैं तो बताइए कि वो मनुष्य थोड़े प्रयास से ही अपने दुखों से कैसे छुटकारा पा सकते है।

श्रीहरि बोले: हे नारद! मनुष्यों की भलाई के लिए तुमने बहुत अच्छी बात पूछी है। जिसके करने से मनुष्य मोह से छूट जाता है, वह बात मैं कहता हूँ उसे सुनो। स्वर्ग लोक व मृत्युलोक दोनों में एक दुर्लभ उत्तम व्रत है जो पुण्य़ देने वाला है। आज प्रेमवश होकर मैं उसे तुमसे कहता हूँ। श्रीसत्यनारायण भगवान का यह व्रत अच्छी तरह विधानपूर्वक करके मनुष्य तुरंत ही यहाँ सुख भोग कर, मरने पर मोक्ष पाता है।

श्रीहरि के वचन सुन नारद जी बोले कि उस व्रत का फल क्या है? और उसका विधान क्या है? यह व्रत किसने किया था? इस व्रत को किस दिन करना चाहिए? सभी कुछ विस्तार से बताएँ। नारद की बात सुनकर श्रीहरि बोले: दुख व शोक को दूर करने वाला यह सभी स्थानों पर विजय दिलाने वाला है। मानव को भक्ति व श्रद्धा के साथ शाम को श्रीसत्यनारायण की पूजा धर्म परायण होकर ब्राह्मणों व बंधुओं के साथ करनी चाहिए। भक्ति भाव से ही नैवेद्य, केले का फल, घी, दूध और गेहूँ का आटा सवाया लें। गेहूँ के स्थान पर साठी का आटा, शक्कर तथा गुड़ लेकर व सभी भक्षण योग्य पदार्थो को मिलाकर भगवान का भोग लगाएँ।

ब्राह्मणों सहित बंधु-बाँधवों को भी भोजन कराएँ, उसके बाद स्वयं भोजन करें। भजन, कीर्तन के साथ भगवान की भक्ति में लीन हो जाएं। इस तरह से सत्य नारायण भगवान का यह व्रत करने पर मनुष्य की सारी इच्छाएँ निश्चित रुप से पूरी होती हैं। इस कलि काल अर्थात कलियुग में मृत्युलोक में मोक्ष का यही एक सरल उपाय बताया गया है।

॥ इति श्री सत्यनारायण व्रत कथा का प्रथम अध्याय संपूर्ण॥

श्रीमन्न नारायण-नारायण-नारायण।
भज मन नारायण-नारायण-नारायण।
श्री सत्यनारायण भगवान की जय॥

You may also like:

सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha

रथ सप्तमी व्रत कथा PDF | Rath Saptami Vrat Katha

शनि देव व्रत कथा | Shani Dev Vrat Katha

निर्जला एकादशी व्रत कथा | Nirjala Ekadashi Vrat Katha

महालक्ष्मी व्रत कथा PDF | Mahalaxmi Vrat Katha

पूर्णिमा व्रत कथा PDF / Purnima Vrat Katha

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप सत्यनारायण व्रत कथा PDF / Satyanarayan Vrat Katha PDF in Hindi मुफ्त में डाउनलोड कर सकते है।


सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha PDF Download Link

Report This
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If सत्यनारायण व्रत कथा PDF | Satyanarayan Vrat Katha is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published.