श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa PDF in Hindi

श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa Hindi PDF Download

श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa PDF Details
श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa
PDF Name श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa PDF
No. of Pages 3
PDF Size 0.36 MB
Language Hindi
CategoryReligion & Spirituality
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa Hindi

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए खाटू श्याम चालीसा इन हिंदी PDF / Khatu Shyam Chalisa in Hindi PDF प्रदान करने जा रहे हैं। श्याम चालीसा का विशेष महत्व माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री खाटू श्याम जी को श्री कृष्ण का कलयुग अवतार माना जाता है। बताया जाता है कि खाटू श्याम जी का संबंध अत्यंत प्राचीन एवं गौरवशाली इतिहास से है।

मान्यता है कि महाभारत काल में ये यह पांडुपुत्र भीम के पौत्र थे। एवं खाटू श्याम जी की अनंत शक्ति और सामर्थ्य से प्रभावित होकर प्रभु श्रीकृष्ण ने इन्हें कलियुग में अपने नाम से पूजे जाने का वरदान भी दिया था। राजस्थान राज्य के सीकर जिले में भगवान श्री खाटू श्याम जी का बहुत ही सुंदर एवं भव्य मंदिर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर में प्रति वर्ष बड़ी संख्या में श्रद्धालु खाटू श्याम की विशेष कृपा प्राप्त करने के लिए आते हैं।

खाटू श्याम जी के भक्तों का मानना है कि बाबा खाटू श्याम सभी भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करते हैं। ऐसा भी माना जाता कि बाबा खाटू श्याम अपने भक्तों को हर प्रकार के संकटों से बचा लेते हैं। इसीलिए अगर आप भी अपने जीवन में खाटू श्याम जी की विशेष कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो श्याम चालीसा का श्रद्धापूर्वक पाठ अवश्य करें।

खाटू श्याम चालीसा PDF / Shyam Chalisa PDF in Hindi

|| श्री खाटू श्याम चालीसा ||

|| दोहा ||

श्री गुरु चरण ध्यान धर, सुमिरि सच्चिदानन्द।
श्याम चालीसा भजत हूँ, रच चैपाई छन्द ||

|| चौपाई ||

श्याम श्याम भजि बारम्बारा,
सहज ही हो भवसागर पारा।
इन सम देव न दूजा कोई,
दीन दयालु न दाता होई।

भीमसुपुत्र अहिलवती जाया,
कहीं भीम का पौत्र कहाया।
यह सब कथा सही कल्पान्तर,
तनिक न मानों इनमें अन्तर।

बर्बरीक विष्णु अवतारा,
भक्तन हेतु मनुज तनु धारा।
वसुदेव देवकी प्यारे,
यशुमति मैया नन्द दुलारे।

मधुसूदन गोपाल मुरारी,
बृजकिशोर गोवर्धन धारी।
सियाराम श्री हरि गोविन्दा,
दीनपाल श्री बाल मुकुन्दा।

दामोदर रणछोड़ बिहारी,
नाथ द्वारिकाधीश खरारी।
नरहरि रूप प्रहलद प्यारा,
खम्भ फारि हिरनाकुश मारा।

राधा वल्लभ रुक्मिणी कंता,
गोपी बल्लभ कंस हनंता।
मनमोहन चितचोर कहाये,
माखन चोरि चोरि कर खाये।

मुरलीधर यदुपति घनश्याम,
कृष्ण पतितपावन अभिराम।
मायापति लक्ष्मीपति ईसा,
पुरुषोत्तम केशव जगदीशा।

विश्वपति त्रिभुवन उजियारा,
दीनबन्धु भक्तन रखवारा।
प्रभु का भेद कोई न पाया,
शेष महेश थके मुनियारा।

नारद शारद ऋषि योगिन्दर,
श्याम श्याम सब रटत निरन्तर।
कवि कोविद करि सके न गिनन्ता,
नाम अपार अथाह अनन्ता।

हर सृष्टि हर युग में भाई,
ले अवतार भक्त सुखदाई।
हृदय माँहि करि देखु विचारा,
श्याम भजे तो हो निस्तारा।

कीर पड़ावत गणिका तारी,
भीलनी की भक्ति बलिहारी।
सती अहिल्या गौतम नारी,
भई श्राप वश शिला दुखारी।

श्याम चरण रच नित लाई,
पहुँची पतिलोक में जाई।
अजामिल अरु सदन कसाई,
नाम प्रताप परम गति पाई।

जाके श्याम नाम अधारा,
सुख लहहि दुख दूर हो सारा।
श्याम सुलोचन है अति सुन्दर,
मोर मुकुट सिर तन पीताम्बर।

गल वैजयन्तिमाल सुहाई,
छवि अनूप भक्तन मन भाई।
श्याम श्याम सुमिरहुं दिनराती,
शाम दुपहरि अरु परभाती।

श्याम सारथी सिके रथ के,
रोड़े दूर होय उस पथ के।
श्याम भक्त न कहीं पर हारा,
भीर परि तब श्याम पुकारा।

रसना श्याम नाम पी ले,
जी ले श्याम नाम के हाले।
संसारी सुख भोग मिलेगा,
अन्त श्याम सुख योग मिलेगा।

श्याम प्रभु हैं तन के काले,
मन के गोरे भोले भाले।
श्याम संत भक्तन हितकारी,
रोग दोष अघ नाशै भारी।

प्रेम सहित जे नाम पुकारा,
भक्त लगत श्याम को प्यारा।
खाटू में है मथुरा वासी,
पार ब्रह्म पूरण अविनासी।

सुधा तान भरि मुरली बजाई,
चहुं दिशि नाना जहाँ सुनि पाई।
वृद्ध बाल जेते नारी नर,
मुग्ध भये सुनि वंशी के स्वर।

दौड़ दौड़ पहुँचे सब जाई,
खाटू में जहाँ श्याम कन्हाई।
जिसने श्याम स्वरूप निहारा,
भव भय से पाया छुटकारा।

|| दोहा ||

श्याम सलोने साँवरे, बर्बरीक तनु धार।
इच्छा पूर्ण भक्त की, करो न लाओ बार।

खाटू श्याम बाबा के चालीसा पाठ से लाभ

  • खाटू श्याम की चालीसा के पाठ करने से बाबा श्याम की विशेष कृपा प्राप्त होती है।
  • इस चालीसा का हृदयपूर्वक पाठ करने से मनुष्य को मानसिक सुख की अनुभूति होती है।
  • अगर आप अपने जीवन में सुख, शान्ति चाहते हैं, तो श्याम चालीसा का श्रद्धापूर्वक पाठ करें।
  • इस चालीसा का पाठ करने वाले जातकों की श्याम बाबा की कृपा से दुखो का अंत हो जाता है।
  • इस दिव्य चालीसा का पाठ करके मनुष्य अपने जीवन में सफलता प्राप्त कर सकता है।
  • श्याम चालीसा के प्रतिदिन पाठ करने से धन-सम्पति की प्राप्ति होती है।
  • इसके पाठ से जीवन में सदैव खुशहाली बनी रहती है।
  • श्याम चालीसा का नियमपूर्वक पाठ करने से समस्त प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती है।
  • अगर आप इस चालीसा का हृदयपूर्वक पाठ नित्य-प्रतिदिन करते हैं तो बाबा श्याम आपकी हर प्रकार के संकटों से रक्षा करते हैं।

नीचे दिये गए लिंक का उपयोग करके आप श्याम चालीसा PDF / Shyam Chalisa PDF को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।


श्याम चालीसा PDF | Shyam Chalisa PDF Download Link

RELATED PDF FILES