PDFSource

सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand PDF in Hindi

सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand Hindi PDF Download

सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand Hindi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand PDF Details
सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand
PDF Name सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand PDF
No. of Pages 64
PDF Size 0.20 MB
Language Hindi
CategoryEnglish
Source aranyadevi.com
Download LinkAvailable ✔
Downloads17
If सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand Hindi

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट के द्वारा हम आप सभी को सुन्दर कांड पाठ PDF / Sunderkand PDF in Hindi मुफ्त में प्रदान करने जा रहे हैं। जैसा कि आप सभी को पता होगा कि हनुमान जी बहुत ही ज्ञानी और बलशाली देवता माने जाते हैं। वह प्रभु श्री राम जी के सबसे प्रिय भक्त हैं। उनका ध्यान करने मात्र से ही व्यक्ति सभी प्रकार के भय से तत्काल ही मुक्त हो जाता है।

सुंदरकांड का पाठ हनुमान जी को प्रसन्न करने का सबसे आसान उपाय है। इसीलिए जो भी भक्त सुंदर कांड का पाठ मन, कर्म, वचन से शुद्ध होकर करते हैं वह अपने जीवन में हर प्रकार के सुखों को भोगते हैं। इस लेख के अंत में हमने आपकी सुविधा हेतु इस पीडीएफ़ को डाउनलोड करने के लिए एक लिंक भी दिया है जिसके द्वारा आप सुंदरकांड पाठ को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

सुन्दर कांड पाठ PDF / Sundar Kand PDF in Hindi

1 – जगदीश्वर की वंदना

शान्तं शाश्वतमप्रमेयमनघं निर्वाणशान्तिप्रदं
ब्रह्माशम्भुफणीन्द्रसेव्यमनिशं वेदान्तवेद्यं विभुम्।
रामाख्यं जगदीश्वरं सुरगुरुं मायामनुष्यं हरिं
वन्देऽहंकरुणाकरं रघुवरं भूपालचूडामणिम्॥1॥

2 – रघुनाथ जी से पूर्ण भक्ति की मांग

नान्या स्पृहा रघुपते हृदयेऽस्मदीये
सत्यं वदामि च भवानखिलान्तरात्मा।
भक्तिं प्रयच्छ रघुपुंगव निर्भरां मे
कामादिदोषरहितंकुरु मानसं च॥2॥

3 – हनुमान जी का वर्णन

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं
दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं
रघुपतिप्रियभक्तंवातजातं नमामि॥3॥

4 – जामवंत के वचन हनुमान् जी को भाए

चौपाई :
जामवंत के बचन सुहाए,
सुनि हनुमंत हृदय अति भाए॥
तब लगि मोहि परिखेहु तुम्ह भाई,
सहि दुख कंद मूल फल खाई ॥1॥

5 – हनुमान जी का प्रस्थान

जब लगि आवौं सीतहि देखी,
होइहि काजु मोहि हरष बिसेषी॥
यह कहि नाइ सबन्हि कहुँ माथा,
चलेउ हरषि हियँ धरि रघुनाथा ॥2॥

6 – हनुमान जी का पर्वत में चढ़ना

सिंधु तीर एक भूधर सुंदर,
कौतुक कूदि चढ़ेउ ता ऊपर॥
बार-बार रघुबीर सँभारी,
तरकेउ पवनतनय बल भारी ॥3॥

7 – पर्वत का पाताल में धसना

जेहिं गिरि चरन देइ हनुमंता,
चलेउ सो गा पाताल तुरंता॥
जिमि अमोघ रघुपति कर बाना,
एही भाँति चलेउ हनुमाना॥4॥

8 – समुन्द्र का हनुमान जी को दूत समझना

जलनिधि रघुपति दूत बिचारी,
तैं मैनाक होहि श्रम हारी॥5॥

सुंदरकांड पाठ के नियम

  • यदि आप अकेले सुंदरकांड का पाठ करना चाहते हैं तो प्रात:काल ब्रह्म मुहूर्त में 4 से 6 बजे के बीच किया जाना चाहिए।
  • यदि आप समूह के साथ सुंदरकांड का पाठ कर रहे हैं तो शाम को 7 बजे के बाद किया जा सकता है।
  • सुंदरकांड का पाठ मंगलवार, शनिवार, पूर्णिमा और अमावस्या को करना सर्वश्रेष्ठ रहता है।
  • सुंदरकांड का पाठ करते समय इसकी पुस्तक को अपने सामने किसी चौकी पर स्वच्छ कपड़ा बिछाकर रखना चाहिए।
  • इसकी पुस्तक को कभी भी जमीन पर या पैरों के पास नहीं रखना चाहिए।
  • सुंदरकांड का पाठ अपने घर के स्वच्छ कमरे में या मंदिर में किया जाना उचित माना जाता है।
  • तत्पश्चात पाठ प्रारंभ से पूर्व हनुमान जी का आह्वान एवं समापन पर विदाई अवश्य करनी चाहिए।

नोट: यहाँ पर अपूर्ण सुंदर कांड दिया गया हैं। सम्पूर्ण सुंदर कांड पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें।

नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके आप सुन्दर कांड पाठ PDF / Sunderkand PDF in Hindi मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं।


सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand PDF Download Link

Report This
If the download link of Gujarat Manav Garima Yojana List 2022 PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If सुन्दर कांड पाठ | Sunderkand is a illigal, abusive or copyright material Report a Violation. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published.