विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti PDF in Marathi

विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti Marathi PDF Download

विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti Marathi PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article.

विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti PDF Details
विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti
PDF Name विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti PDF
No. of Pages 1
PDF Size 0.07 MB
Language Marathi
CategoryEnglish
Source pdffile.co.in
Download LinkAvailable ✔
Downloads17

विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti Marathi

नमस्कार मित्रों, इस लेख के माध्यम से आप विठ्ठलाची आरती PDF / Vitthalachi Aarti PDF प्राप्त कर सकते हैं।  हिन्दू धर्म में भगवान विट्ठल को भगवान श्री कृष्ण का ही एक रूप माना जाता है तथा इसी के साथ विट्ठल भगवान को भगवान श्री हरी विष्णु जी का अवतार भी माना आता है। हिन्दू धर्म के अनुसार विट्ठल भगवान को मंदिर में देवी रुक्मिणी के साथ स्थापित किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार विट्ठल भगवान की आराधना करने से बहुत अधिक लाभ प्राप्त होता है।

विट्ठल भगवान की पूजा-आराधना करने से घर में सुख-शांति एवं वैभव बना रहता है। बहुत से लोग अपने घर में भगवान विट्ठल की मूर्ति स्थापित करते हैं। अगर आप भी चाहे तो वास्तु शास्त्र के अनुसार किसी पंडित जी से पूछकर घर में भगवान विट्ठल की मूर्ति की स्थापना करवा सकते हैं। भगवान विष्णु का अवतार होने के कारण इन्हें मराठी भाषा में देवो के देवा भी बोला जाता है।

भारत वर्ष में इनके बहुत सारे मंदिर देखने को मिलते हैं। विट्ठल भगवान के दर्शन के लिए अनेकों भक्त बहुत दूर-दूर से आते हैं। तीर्थस्थल के दौरान तथा किसी विशेष कामना की पूर्ति के लिए लोग पैदल दर्शन करने भी आते हैं। अगर आप भगवान विट्ठल को शीघ्र प्रसन्न करके उनका आशीर्वाद अपने जीवन में प्राप्त करना चाहते हैं विठ्ठलाची आरती (भगवान विट्ठल की आरती) पूरे श्रद्धा-भाव से अवश्य करें।

विठ्ठलाची आरती मराठी PDF / Vitthalachi Aarti Lyrics in Marathi PDF

(Vitthalachi Aarti)

युगे अठ्ठावीस विटेवरी उभा
वामाङ्गी रखुमाईदिसे दिव्य शोभा ।
पुण्डलिकाचे भेटि परब्रह्म आले गा
चरणी वाहे भीमा उद्धरी जगा ॥१॥

जय देव जय देव जय पाण्डुरङ्गा ।
रखुमाई वल्लभा राईच्या वल्लभा पावे जिवलगा ॥धृ०॥

तुळसीमाळा गळा कर ठेऊनी कटी
कासे पीताम्बर कस्तुरी लल्लाटी ।
देव सुरवर नित्य येती भेटी
गरुड हनुमन्त पुढे उभे राहती ॥२॥

धन्य वेणूनाद अणुक्षेत्रपाळा
सुवर्णाची कमळे वनमाळा गळा ।
राई रखुमाबाई राणीया सकळा
ओवाळिती राजा विठोबा सावळा ॥३॥

ओवाळू आरत्या कुरवण्ड्या येती
चन्द्रभागेमाजी सोडुनिया देती ।
दिण्ड्या पताका वैष्णव नाचती
पण्ढरीचा महिमा वर्णावा किती ॥४॥

आषाढी कार्तिकी भक्तजन येती
चन्द्रभागेमाजी स्नाने जे करिती ।
दर्शन होळामात्रे तया होय मुक्ति
केशवासी नामदेव भावे ओवाळिती ॥५॥

नीचे दिये गए लिंक का उपयोग करके आप विठ्ठलाची आरती PDF / Vitthalachi Aarti Marathi PDF by going through the following download button.


विठ्ठलाची आरती PDF | Vitthalachi Aarti PDF Download Link